गुजरात का अनोखा मंदिर, यहां किसी भगवान की नहीं बल्कि मुस्लिम महिला की होती है पूजा

Medhaj News 10 Oct 17 , 06:01:37 Ajab Gajab
dhola_temple.jpg

हिन्दू धर्म में मंदिर एक पवित्र स्थान माना जाता है, लोगों की विभिन्न देवी- देवताओं में विश्वास, आस्था और श्रद्धा भिन्न-भिन्न हो सकते है। राजाओं, योद्धाओं और अनेक महान लोगों द्वारा मंदिर बनाए गए है। वैसे तो आपने बहुत मंदिर देखे होंगे, लेकिन इस गांव का यह मंदिर अपने आप में ही अनोखा है क्योंकि यहां किसी भगवान की नही मुस्लिम महिला की पूजा होती है। जी हां, यह बात आपको हैरान जरूर करेगी लेकिन यह सत्य है तो आइए जानते है इस मंदिर के बारे में...

यह मंदिर गुजरात के छोटे से गांव झूलासन में बना हुआ है। झूलासन गांव में स्थित इस मंदिर में डोला नामक एक मुस्लिम महिला की पूजा की जाती है।

क्यों पूजते है लोग इस महिला को-

इस महिला से जुड़ी कहानी 250 साल पुरानी है, जिसका नाम डोला था। उस समय में झूलासन गांव पर कुछ उग्र लोगों ने हमला किया था, जिसका डोला ने बड़ी बहादुरी से सामना किया। लेकिन इस लड़ाई में डोला ने अपने प्राण गंवा दिए थे। स्थानीय लोगों द्वारा बताया जाता है कि डोला का मृत शरीर फूल में बदल गया था। निडर डोला को श्रद्धांजलि देने के लिए स्थानीय लोगों ने इसका मंदिर बनवाया, तब से यहां के लोगों द्वारा डोला माता की पूजा की जाती है। कुछ लोगों की मान्यता है कि डोला माता के आशीर्वाद से सारी मनोकामनाएं पूरी होती है।

आपको बता दें, इसके अलावा सुनीता विलियम्स के मूल गांव के रूप में भी जाना जाता है, जो भारत की पहली महिला आंतरिक्ष यात्री थी। स्थानीय लोगों द्वारा इस मुस्लिम महिला को भगवान की तरह पूजा जाता है। सुनीता भी अपने पिता के साथ यहां दर्शन करने आई थी। तब से बाहर के लोग भी यहां दर्शन करने आते है। हालांकि इस मंदिर में माता की कोई मूर्ति नही है बस एक साड़ी में लिपटा एक पत्थर है।

इस मंदिर की देखभाल यहां दर्शन करने आए बीजेपी नेताओं द्वारा की जाती है। इस गांव में एक भी मुस्लिम परिवार नही रहता है।

कैसे जाएं-

यह गांव अहमदाबाद से 40KM दूर है तो आप आसानी से बस या कैब से जा सकते है। यह मंदिर डोला माता के नाम से प्रसिद्ध है।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like