हैरान हो जाएंगे किन्नर के जन्म का सच जानकर...

Medhaj News 11 Oct 17 , 06:01:37 Ajab Gajab
kinnar.jpg

किन्नर हमारे समाज का ही एक हिस्सा होते है, लेकिन हमारा समाज इन्हें अभी तक स्वीकार नहीं कर पाया है। किन्नर का नाम सुनते ही हम सभी के मन में एक ऐसे शख्स की छवि नजर आती है, जो हमसे बहुत अलग है। शारीरिक रूप से अलग होने के चलते हम उन्हें आज तक अपने समाज का हिस्सा बना ही नहीं पाए हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है आखिर एक किन्नर... किन्नर बनता कैसे है? सोचने वाली बात यह है कि किन्नर का जन्म कैसे होता है, इसके पीछे क्या कारण है? आज इसी के बारे में हम आपको कुछ जानकारी देना चाहते हैं।

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो बच्चे के जन्म के वक्त उनकी कुंडली के अनुसार अगर आठवें घर में शुक्र और शनि विराजमान हो और जिन्हें गुरु और चंद्र नहीं देखता है तो व्यक्ति नपुंसक हो जाता है और उसका जन्म किन्नरों में होता है। क्योंकि कुंडली के अनुसार शुक्र और शनि के आठवें घर में विराजमान होने से सेक्स में प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। जिससे बच्चे का जन्म किन्नर रुप में होता है।

हालांकि इसपर हर कोई किसी को विश्वास नहीं होता।

मेडिकल साइंस के अनुसार

किन्नर के जन्म को लेकर मेडिकल साइंस ने भी कई कारण बताए हैं...

- जब गर्भधारण के दौरान रक्त और वीर्य दोनों की मात्रा एक समान होती है तो बच्चा किन्नर पैदा होता है।

-महिला के गर्भ में पल रहे शिशु का विकास 3 महीने के बाद शुरू हो जाता है, अगर इस दौरान गर्भवती महिला को कोई स्वास्थय समस्या हो जाती है। तो हार्मोंन्स की समस्या के कारण गर्भ में पल रहे शिशु के अंदर महिला और पुरुष दोनों के ऑर्गन्स आ जाते हैं... जिससे बच्चा किन्नर बन जाता है।

- गर्भवती स्त्री ऐसी कोई दवा खा ले जो उसके शिशु को नुकसान कर जाए तो शिशु किन्नर बन सकता है।

- गर्भवती स्त्री अगर बिना डॉक्टर की सलाह के गर्भपात की दवा खाती है, इससे भी शिशु किन्नर बन सकता है।

- गर्भवती स्त्री अगर स्वास्थ्य समस्या में दवा का हैवी डोज ले ले, तो शिशु किन्नर बन सकता है।

- तीन माह के दौरान अगर गर्भवती स्त्री के साथ कोई दुर्घटना हो जाए तो शिशु के किन्नर बनने के चांस रहते है।

अंत यह एक प्राकृतिक देन है... इसलिए किन्नरों के प्रति हीन भावना नहीं सम्मान व्यक्त करें। ताकि वे भी खुद को हमसे अलग नहीं, जुड़ा हुआ महसूस करे।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like