14 जनवरी : मकर संक्रांति पर स्नान का महत्व

medhaj news 9 Jan 18 , 06:01:38 Ajab Gajab
makar_sankranti.jpg

उत्तरी गोलार्द्ध को प्रकाशवान करने की क्रिया के साथ सूर्यदेव के मकर राशि में प्रवेश को मकरसंक्रांति कहा जाता है |सूर्यदेव के उतरायण होने पर दिन बड़े होने लगते है और मनुष्य की कार्य छमता में वृधि होती है |जिससे मानव गति की ओर अग्रसर होता है |मकर संक्रांति की साधना से सारे शनि दोष पलायन कर जाते है |

पूजा विधि :

मकर स्नाक्रंती के दिन सूर्योदय से पहले स्नान आदि से निवृत्त हो सूर्योदय के समय ताम्र पात्र में जल,कुमकुम ,अक्षत ,लाल पुष्प आदि दाल कर पूजा करे |मकर स्नाक्रंती के दिन गंगा स्नान , गंगा सागर का स्नान विशेष महत्व रखता है |

सप्ताह के व्रत–त्यौहार :

9 जनवरी  कालाअष्टमी
10 जनवरी  माघ कृष्णा नवमी शाम 5 बजकर 28 मिनट तक 
11 जनवरी  माघ कृष्णा दशमी 
12 जनवरी  षष्टतिला एकादशी व्रत |
13 जनवरी  लोहड़ी
14 जनवरी 

मकर संक्रांति (सूर्य मकर राशि में दोपहर 1 बजकर 47 मिनट पर )

15 जनवरी  मास शिवरात्रि व्रत ,कालिका पूजन 

                                                 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends