वैली जहां आकर परिंदे करते है आत्महत्या, जुड़े है कई राज

medhaj news 30 Oct 17 , 06:01:37 Ajab Gajab
assam_jatinga.jpg

आपने अक्सर इंसानों की आत्महत्याओं के बारें में सुना होगा, लेकिन आत्महत्या केवल इंसान ही नहीं बल्कि परिंदे भी करते है। जी हां, जानकर आपको हैरानी होगी, लेकिन असम में एक ऐसा स्थान है जहां पर परिंदे सिर्फ अपनी जान देने के लिए आते है। 

असम ‘दिमा हासो’ जिले की पहाड़ी घाटी में बसे इस रहस्यमयी गांव का नाम है जतिंगा। यहां पर परिंदे खुदकुशी करते है। ये सिलासिला सितंबर माह में शुरू हो जाता है।

माना जाता है कि यहां एक बार भी यदि कोई अप्रवासी पक्षी आ जाए तो वह वापिस नहीं जा पाता। अक्टूबर और नवंबर महीने के दौरान अंधेरी रातों में यहां पर अजीबो-गरीब किस्से सुनने को मिलते हैं। यहां पर कोहरे की रातों को भी पक्षियों के आत्महत्या करने के मामले अधिक सामने आते है। यहां के लोग परिंदो की मौत को रहस्मयी ताकतों और भूत-प्रेतों से जुड़ा हुआ मानते है।

इसे भी पढ़ें-इंसानी चेहरा और शरीर बिल्ली का... आखिर क्या है इस जीव की हकीकत?

दूसरी तरफ विज्ञान की मानें तो गहरी घाटी में बसे होने के कारण जातिंगा में तेज बारिश के चलते पक्षी उड़ने की कोशिश करते रहते है, लेकिन वह पूरी तरह गीले हो जाते हैं, और उड़ने में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। दूसरी तरफ तेज हवाओं के चलते पक्षियों का संतुलन बिगड़ जाता है और वह पेड़ों से टकरा कर घायल होकर जमीन पर गिर जाते है और दम तोड़ देते है।

आत्महत्या की में स्थानीय और प्रवासी चिड़ियों की 40 प्रजातियां शामिल है। कहा जाता है कि अप्रवासी जाने के बाद वापिस नहीं आते। इसके साथ ही इस वैली में रात की एंट्री पर बैन है। वैसे ये गांव प्राकृतिक कारणों के चलते 9 महीनों तक बाहरी दुनिया अलग-थलग रहता है।  

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like