सावधान...खतरे में आधार कार्ड का डेटाबेस,रिपोर्ट सही या झूठ

Medhaj news 12 Sep 18 , 06:01:38 India
adharuidia.jpg

आधार की सुरक्षा पर चर्चा के बीच एक रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि आधार के सॉफ्टवेयर को हैक कर लिया गया है। इससे आपकी निजता पर खतरा बढ़ गया है।हफिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर हैक किया जा चुका है और भारत के करीब एक अरब लोगों की निजी जानकारी दांव पर लगी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आधार कार्ड के सॉफ्टवेयर में एक पैच है जिसकी मदद से एक सॉफ्टवेयर के जरिए दुनिया के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति किसी के भी नाम से वास्तविक आधार कार्ड बना सकता है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उसने तीन महीने की जांच के बाद इस रिपोर्ट को प्रकाशित किया है। इस रिपोर्ट को तैयार करने में दुनियाभर के 5 एक्सपर्ट की मदद ली गई है। अभी भी इस सॉफ्टवेयर का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। दरअसल इस सॉफ्टवेयर की मदद से आधार के सिक्योरिटी फीचर को बंद किया जा सकता है और नया आधार तैयार किया जा सकता है। आधार कार्ड हैक करने वाला यह सॉफ्टवेयर 2,500 रुपए में व्हाट्सएप पर बेचा जा रहा है। इसके जरिए किसी भी व्यक्ति के आधार में परिवर्तन किया जा सकता है।

आधार के डेटाबेस में एक अरब से ज्यादा लोगों की निजी जानकारियां और बायॉमीट्रिक्स डीटेल दर्ज हैं। विशेषज्ञों ने पता लगाया है कि पैच के जरिए यूजर महत्वपूर्ण सुरक्षा फीचर्स को दरकिनार कर सकता है, जिससे गैरकानूनी तरीके से वह आधार नंबर जनरेट कर सकता है। कांग्रेस ने एक ट्वीट में कहा - आधार नामांकन सॉफ्टवेयर के हैक हो जाने से आधार डेटाबेस की सुरक्षा खतरे में आ सकती है। हमें उम्मीद है कि अधिकारी भावी नामांकनों को सुरक्षित करने और संदिग्ध नामांकन की पुष्टि के लिए उचित कदम उठाएंगे।

ये भी पढ़े -OMG! पेट्रोल-डीजल के दाम कम न होने का ये है कारण

UIDAI ने कहा रिपोर्ट बेबुनियाद

वहीं, UIDAI ने एक बयान जारी करते हुए आधार सॉफ्वेयर हैक हो जाने की खबर को बेबुनियाद कहा है | कुछ लोग जानबूझकर लोगों के मन में भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं | UIDAI ने कहा है कि किसी भी डेटा को डिस्क में सेव करने से पहले जरूरी सुरक्षा उपायों को ध्यान में रखा जाता है | UIDAI ने आगे स्पष्ट किया कि कोई भी ऑपरेटर आधार बना या अपडेट नहीं कर सकता है | जब तक कोई निवासी स्वयं अपनी बॉयोमेट्रिक डिटेल उसे ना दे दे | संस्था ने रिपोर्ट के दावे को पूरी तरह से गलत बताया है जिसमें कहा गया है कि कोई भी आधार डेटाबेस में प्रवेश कर सकता है और कई आधार कार्ड बना सकता है | UIDAI ने ये भी कहा है कि उनके द्वारा सिस्टम में समयानुसार नए सिक्योरिटी फीचर्स को जोड़ा जाता है | ताकि किसी भी नए खतरे से बचा जा सके |

इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि टेलीकॉम कंपनियों और अन्य प्राइवेट कंपनियों को जब यूआईडीएआई ने आधार का एक्सिस दिया था तभी यह खामी सामने आ गई थी | इससे दुनिया में बैठा कोई व्यक्ति आसानी से आधार डेटा का दुरुपयोग कर सकता है | हालांकि इस मामले पर यूआईडीएआई ने कोई बयान नहीं दिया है | सरकार का अभी भी कहना है कि आधार पूरी तरह सुरक्षित है |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends