राजस्थान की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल बनी गंगा, जोधपुर हाईकोर्ट ने दिलाया न्याय

Medhaj News 14 Nov 17 , 06:01:37 India
Ganga_transgender.jpg

जोधपुर हाईकोर्ट द्वारा सोमवार को एक किन्नर के पक्ष में सुनाए गए फैसले ने प्रदेश के किन्नरों के लिए सरकारी नौकरी के दरवाजे खोल दिए है। किसी किन्नर को सरकारी नौकरी देने का राजस्थान में पहला और देश में तीसरा मामला है। इस फैसले के बाद अब पुलिस में कांस्टेबल के पद पर पहली बार किसी किन्नर को नियुक्ति दी जाएगी ।

यह था मामला-

जालोर के रानीवाड़ा के जाखड़ी गांव की रहने वाली गंगा कुमारी ने 2013 में कांस्टेबल की भर्ती में आवेदन दिया था। इसके बाद लिखित परीक्षा और फिजिकल टेस्ट में उत्तीर्ण होने के बाद में जब गंगा के मेडिकल टेस्ट की बारी आई तो ट्रांसजेंडर का प्रमाण पत्र देख टेस्ट लेने वाले चौंक गए और गंगा की नियुक्ति पर टालमटोल करने लगे।

करीब दो साल तक गंगा अपने हक के लिए सरकारी दफ्तरों के गंगा चक्कर काटती रही, लेकिन उसे नौकरी नहीं मिली। आखिरकार उसने जोधपुर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और उसे न्याय मिला। जस्टिस दिनेश मेहता की कोर्ट ने गंगा कुमारी की याचिका पर सुनवाई करते हुए 6 सप्ताह में नियुक्ति देने और वर्ष 2015 से ही नेशनल बेनीफिट देने के निर्देश दिए है ।

गंगा करनी चाहती है देश की सेवा

गंगा खुद को बचपन से लड़की मानती है और कांस्टेबल बनने के पीछे उसका सपना है कि वो पुलिस कांस्टेबल बनकर आम जनता की सेवा करे। यही वजह है कि गंगा ने कांस्टेबल बनने के लिए कड़ी मेहनत की।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like