Headline


जानिए कब से शुरू होगी नवरात्रि, नौ देवी नौ मंत्र के साथ करें इस नवरात्रि देवी की उपासना

Medhaj News 19 Sep 19 , 06:01:39 India
navaratri.png

शारदीय नवरात्रि की शुरुआत इस बार 29 सितम्बर, रविवार से हो रही है | नवरात्रि के नौ दिनों तक मां नव दुर्गा के अलग अलग नौ स्वरूपों की पूजा होती है |  देवी का हर रूप एक दूसरे से एकदम अलग है और उनका धार्मिक महत्व भी काफी अलग है | आइए जानते हैं नवरात्रि में देवी के अलग अलग स्वरूपों का महत्व:





शैलपुत्री:

नवरात्रि के पहले दिन मां के इस रूप की पूजा अर्चना होती है | गाय पर सवार मां शैलपुत्री चंद्रमा को धारण करती हैं | धार्मिक मान्यता के अनुसार, मां शैलपुत्री की आराधना करने से जातक की कुंडली में चंद्र दोष ठीक होता है |

ब्रह्मचारिणी:

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा अर्चना होती है | मां का यह स्वरूप मंगल गृह का स्वामी है | ब्रह्मचारिणी मां की पूजा करने से लोगों की कुंडली में मंगली दोष का प्रभाव कम होता है |

चंद्रघंटा:

नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है | यह शुक्र गृह की देवी मानी जाती हैं | नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा अर्चना करते वाले जातकों की जन्मपत्री में शुक्र दोष समाप्त होता है |

कूष्मांडा:

नवरात्रि के चौथे दिन मां कूष्मांडा की पूजा अर्चना की जाती है | कूष्मांडा मां सूर्य से सम्बंधित दोषों को ठीक करती हैं | जिन जातकों की कुंडली में सूर्य नीच का हो उन्हें मां कूष्मांडा की पूजा से लाभ होता है |

स्कंदमाता:

नवरात्रि के पांचवे दिन स्कंदमाता मां की पूजा अर्चना की जाती है | यह बुध ग्रह की देवी हैं | जो जातक स्कंदमाता की पूजा अर्चना करते हैं उनकी कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होती है |

स्कंदमाता:

नवरात्रि के पांचवे दिन स्कंदमाता मां की पूजा अर्चना की जाती है | यह बुध ग्रह की देवी हैं | जो जातक स्कंदमाता की पूजा अर्चना करते हैं उनकी कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होती है |

कालरात्रि:

नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा अर्चना की जाती है | मां कालरात्रि की पूजा करने से शनि दोष समाप्त होता है |

महागौरी:

नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा करने का प्रचलन है | मां महागौरी राहू की स्वामिनी मानी जाती हैं | जो जातक नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा अर्चना करते हैं उनकी जन्मपत्री का राहू दोष समाप्त हो जाता है |

सिद्धिदात्री:

नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है | देवी के इस स्वरूप को केतु ग्रह की स्वामिनी माना गया है | जो जातक नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना करते हैं उनके जीवन से केतु का दोष हट जाता है |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends