लौहपुरूष ‘सरदार पटेल’ की 66वीं पुण्यतिथि आज! पीएम मोदी ने किया नमन!

Rajat Tripathi 15 Dec 16 , 06:01:36 India
sardar_patel.jpg

भारत के ‘लौहपुरूष’ सरदार वल्लभ भाई की आज 66वीं पुण्यतिथि है। 15 दिसंबर 1950 को इस महान शख्सियत ने देश को अलविदा कह दिया था। सरदार पटेल की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल को नमन किया। पीएम मोदी ने स्वतंत्रता की लड़ाई में सरदार पटेल के योगदान को याद किया।

जानें सरदार पटले के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

31 अक्टूबर 1875 को जन्में सरदार पटेल स्वतंत्र भारत के पहले गृहमंत्री थे। इसके साथ ही वे देश के पहले उपप्रधानमंत्री भी थे। भारत को अंग्रेजों के चंगुल से मुक्त कराने में सरदार पटेल ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया। कई बार वे जेल भी गए। लेकिन उन्हें अंग्रेजों का अत्याचार डिगा न सका।

बारडोली सत्याग्रह की अगुवाई कर वल्लभ भाई पटेल को वहां की महिलाओं ने ‘सरदार’ की उपाधि दी।

नेहरू के लिए प्रधानमंत्री की कुर्सी

स्वतंत्रता के बाद सबसे बड़ा सवाल यह था कि देश का प्रधानमंत्री कौन बनेगा। इसके लिए बड़ी जद्दोजहद थी, इसके लिए तत्कालिन प्रांतों की वोटिंग कराई गई। कुल 15 वोटों में से 13 वोट सरदार पटेल को मिले, जबकि जवाहर लाल नेहरू को सिर्फ 1 वोट मिला। वोटिंग के बाद तय चुका था कि देश के पहले प्रधानमंत्री सरदार पटेल ही बनेंगे, लेकिन इसके बाद एक दिलचस्प मोड़ आया। महात्मा गांधी ने सरदार पटेल को बुलाया। और जवाहर लाल नेहरू को प्रधानमंत्री बनाने का प्रस्ताव रखा, इस प्रस्ताव को सरदार पटेल ने स्वीकर कर लिया। इसके बाद नेहरू देश के पहले प्रधानमंत्री बने और सरदार पटेल ने गृहमंत्री का कार्यभार संभाला।

एकता के प्रतीक बने सरदार पटेल

भारत की एकता और अखंडता का श्रेय सरदार पटेल को जाता है। उन्होंने ताकत का इस्तेमाल कर हैदराबाद, गोवा, दीव-दमन समेत कई रियासतों को भारत में विलय किया। इसके साथ ही अपनी कूटनीति से जम्मू-कश्मीर को भारत की ओर आकर्षित किया। यही वजह है कि आज जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा है।

RSS पर लगाया था प्रतिबंध

गृहमंत्री रहते हुए सरदार पटेल ने महात्मा गांधी की हत्या और अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंसा में कथित तौर पर शामिल होने के आरोप में राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया। पटेल जी ने अगस्त 1948 में आरएसएस प्रमुख गोवलकर को पत्र लिखकर कहा, संघ के सभी नेताओं के भाषण सांप्रदायिक जहर से भरे हुए थे।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like