Headline



शाहीन बाग में बंद रास्ता खुलवाने के लिए आज फिर मध्यस्थ वहाँ पहुंचे

Medhaj News 20 Feb 20 , 06:01:40 India
shaeen01.png

दिल्ली के शाहीन बाग में बंद रास्ता खुलवाने के लिए आज फिर मध्यस्थ साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े पहुंचे | उन्होंने आंदोलनकारियों से बातचीत की | साधना रामचंद्रन ने कहा कि आपने बुलाया इसलिए हम वापस आए कल दादियों का हमें आशीर्वाद मिला | हम सब हिंदुस्तान के नागरिक हैं | हमें समझकर चलना होगा | आपको समझना होगा कि सीएए का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट के सामने आएगा | उन्होंने बंद सड़क के मुद्दे पर बातचीत शुरू की | संजय हेगड़े ने कहा कि किसी को तकलीफ़ हो रही है तो सब मिल जुलकर रास्ता निकालें | कुछ ही देर बाद साधाना रामचंद्रन ने मीडिया की मौजूदगी पर आपत्ति जताई | इसके बाद मीडिया के प्रतिनिधि धरनास्थल से बाहर चले गए | गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग के बंद रास्ते को खुलवाने के लिए आंदोलनकारियों से बातचीत के लिए मध्यस्थों की नियुक्ति की है | मध्यस्थ संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन ने बुधवार को भी शाहीन बाग में धरना दे रहे लोगों से बातचीत की थी लेकिन कोई समाधान नहीं निकल सका | दोनों मध्यस्थ गुरुवार को भी धरना स्थल पर पहुंचे और लोगों से बातचीत की | साधना रामचंद्रन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के सामने वह मुद्दा है, हम उस पर बात नहीं करेंगे | सुप्रीम कोर्ट ने का कहा है कि प्रदर्शन करने का हक सबको है | हमें सड़क बंद होने के मुद्दे पर बात करने के लिए भेजा गया है | हम ये कहना चाहते हैं कि शाहीनबाग बरकरार रहेगा |





उन्होंने कहा कि हम ये कह रहे हैं कि आप शाहीनबाग में ही रहें और लोगों को परेशानी न हो, तो आपको मंज़ूर है? इस पर वहां मौजूद लोगों ने कहा, नहीं, सड़क नहीं छोड़ेंगे | इसके बाद साधना रामचंद्रन ने कहा कि हम हिंदुस्तान के नागरिक हैं, एक-दूसरे को तकलीफ में नहीं देख सकते | हमारा ईमान है कोशिश करना | पूरी कोशिश के बाद अगर ये मसला नहीं सुलझा तो ये मामला वापस सुप्रीम कोर्ट जाएगा, फिर सरकार जो करना चाहेगी करेगी | हर समस्या का समाधान है | हम चाहते हैं कि हल निकले और शाहीनबाग को बरकरार रखकर निकले, तो सही रहेगा | संजय हेगड़े ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ये देख रहा है कि शाहीनबाग एक मिसाल होना चाहिए | ये हो कि किसी को तकलीफ हुई तो सबने मिल जुलकर रास्ता निकाला | हम सुन रहे थे कि दो महीने से बैठे हैं, कि आपकी क्या परेशानी है | हम एक-दूसरे की मदद करने के लिए हैं | सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि प्रदर्शन का हक़ बरकरार रहे | शाहीनबाग बरकरार रहे पर किसी को परेशानी न हो | इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया | संजय हेगड़े ने कहा कि आप ये कह रहे हैं कि यहां से हटेंगे को कोई सुनने वाला नहीं आएगा? यही तो कह रहे हैं न आप | हम कह रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट में हम आपकी आवाज उठाएंगे | हम आपके बीच आकर आपकी बात सुनेंगे, हम पर यकीन रखिए | इसके पश्चात साधना रामचंद्रन ने कहा कि मध्यस्थ नहीं चाहते कि वहां मीडिया मौजूद रहे | इसके बाद मीडिया कर्मी धरनास्थल से बाहर चले आए |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends