Birthday Special: श्रीदेवी के प्यार में थे पागल, इस एक्ट्रेस से होने वाली थी शादी

medhaj news 7 Apr 18 , 06:01:38 Bollywood
07best_film_of_jitendra5.jpg

बॉलीवुड एक्टर जितेन्द्र का असली नाम "रवि कपूर" है आज उनका 76वां जन्मदिन है। जितेंद्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था। करीब चार दशक तक बॉलीवुड में सक्रिय रहे इस अभिनेता ने साल 1960 से लेकर 1990 तक 200 फिल्में की। साल 1959 में डायरेक्टर वी. शांताराम की फिल्म "नवरंग" में डबल रोल से उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी। लगभग 5 सालों तक जितेंद्र फिल्म इंडस्ट्री में अभिनेता के रूप में काम पाने के लिए संघर्षरत रहे। 1964 में उन्हें शांताराम की फिल्म "गीत गाया पत्थरों ने" में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म के बाद जितेंद्र अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गए। 1967 में जितेंद्र की एक और सुपरहिट फिल्म "फर्ज" रिलीज हुई। इस फिल्म के बाद जितेन्द्र को "जम्पिंग जैक" कहा जाने लगा।
जितेंद्र के साथ हेमा मालिनी की जोड़ी को दर्शकों ने काफी पसंद किया। उस वक्त हेमा ने जितेंद्र को ज्यादा लिफ्ट नहीं दी। उस दौर में धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की जोड़ी ने कई हिट फिल्में दीं जिसके बाद जितेंद्र को लगा कि अगर वह हेमा मालिनी से शादी कर लें तो वह भी धर्मेंद्र की तरह लकी हीरो बन जाएंगे। इसके लिए जितेन्द्र ने अपनी मां को हेमा की मां के पीछे लगा दिया लेकिन हेमा की मां जया चक्रवर्ती ने पूरा मामला हेमा पर ही छोड़ दिया। यही नहीं मद्रास में दोनों परिवारों ने मुलाकात भी की। शादी की बात तय हो जाती लेकिन जितेंद्र मंगनी के तुरंत बाद शादी करना चाहते थे। उन्हें डर था कि कहीं मंगनी के बाद हेमा मालिनी का मन ना बदल जाए। हेमा मालिनी शादी के तैयार भी हो गई थीं लेकिन तभी जितेंद्र की गर्लफ्रेंड शोभा सिप्पी अपने परिवारवालों के साथ मद्रास पहुंच गईं और उनकी शादी की बात बीच में ही अटक गई। बाद में हेमा मालिनी ने धर्मेन्द्र से शादी कर ली और 1974 में जितेंद्र भी शोभा के साथ शादी के बंधन में बंध गए।
 लेकिन हेमा मालिनी से पहले अगर किसी ने जितेन्द्र के दिल पर दस्तक दी तो वो थीं श्रीदेवी। साल 1983 में रिलीज हुई फिल्म 'हिम्मतवाला' से ही श्रीदेवी को हिंदी फिल्मों में पहचान मिली थी। कहा जाता है कि इस फिल्म के निर्देशक के.राघवेंद्र राव से जितेन्द्र ने ही श्रीदेवी को फिल्म में कास्ट करने की बात कही थी। वहीं दूसरी तरफ जब श्रीदेवी को जितेन्द्र के साथ 'हिम्मतवाला' के लिए साइन किया गया तो वह इस बात से बेहद खुश हुईं क्योंकि बॉलीवुड में आने से पहले से ही श्रीदेवी जितेन्द्र की बड़ी फैन थीं लेकिन जितेन्द्र भी श्रीदेवी से प्यार करने से खुद को दूर नहीं रख पाए। जल्द ही दोनों के रोमांस के चर्चे भी आम हो गए। जितेन्द्र ने जैसे ही अपनी चाहत का इजहार किया तो बात जितेन्द्र की पत्नी शोभा कपूर तक पहुंच गई। शोभा को इस बात की भी खबर थी कि जितेन्द्र के कहने पर ही श्रीदेवी को उनके साथ कास्ट किया जाता है। इसके बाद शोभा का धैर्य जबाव दे गया और दोनों के बीच काफी तनाव बढ़ गया। इस तनाव को दूर करने को लेकर जब जितेन्द्र ने श्रीदेवी को अपने घर बुलाकर अपनी पत्नी से मिलवाया, तो शोभा कपूर और बेटी एकता कपूर ने उनकी ऐसी खातिरदारी की जिसे श्रीदेवी सालों बाद भी नहीं भुला पाई और यही मुलाकात जितेन्द्र और श्रीदेवी के रिश्ते में खटास की वजह बन गई।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends

    Special Story