बाबा रामदेव के ‘पतंजलि’ पर लगा 11 लाख का जुर्माना! जाने वजह

मेधज न्यूज़ 15 Dec 16 , 06:01:36 Business & Economy
patanjali.jpg

योगगुरू बाबा रामदेव की देशी कंपनी पतंजलि एक बार फिर विवादों में है। कोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड को प्रोडक्ट्स की ब्रांडिंग और प्रचार के मामले में फर्जीवाड़ा करने का दोषी पाया है। पतंजलि पर आरोप था कि उनके प्रोडक्ट कहीं और के बने हैं, जबकि वे पतंजलि के नाम पर बेच रहे हैं। मामले में कोर्ट ने पतंजलि को दोषी पाया और 11 लाख रूपए का जुर्माना लगाया। पतंजलि को जुर्माने की रकम इसी महीने चुकानी होगी।

इसे भी पढ़े - बाबा रामदेव से पहले किसने बनाई देसी जींस?

हरिद्वार के एडीएम एलएन मिश्रा की अदालत ने पतंजलि के 5 प्रोडक्ट्स की फर्जी ब्रांडिंग करने का दोषी पाया है। बतौर सजा 11 लाख रूपए का जुर्माना लगाया है। कोर्ट ने सरसों की गलत ब्रांडिंग पर 2.5 लाख, नमक के लिए 2.5 लाख, पाइन एप्पल जैम के लिए 2.5 लाख, बेसन के लिए 1.5 लाख, और शहद को पतंजलि का बताकर बेचने के लिए 2 लाख रूपए का जुर्माना लगाया है। कोर्ट ने बताया कि जांच में पाया गया है कि इन उत्पादों को पतंजलि ने नहीं बनाया है।

2012 में लिए गए थे सैंपल

खाद्य सुरक्षा अधिकारी योगेंद्र पांडे के मुताबिक, 2012 में हरिद्वार स्थित दिव्य योग मंदिर के पतंजलि स्टोर से सरसों तेल, नमक, बेसन, जैम और शहद के सैंपल लिए गए थे। टेस्ट में पतंजलि के सैंपल फेल हो गए थे। जांच रिपोर्ट के आधार पर एडीएम कोर्ट में केस दायर किया गया था। पतंजलि पर भ्रामक प्रचार करने का आरोप लगा था।

इसे भी पढ़े - पतंजलि का वारिस कौन होगा, रामदेव बाबा ने किया खुलासा

1 दिसंबर को सुनाया गया था फैसला

मामले में कोर्ट ने 1 दिसंबर को फैसला सुना दिया था। जिसे अब सार्वजनिक किया गया है।

बता दें, पतंजलि इन उत्पादों को खुद नहीं बनाती है, बल्कि अपना लोगो लगाकर बेचती है। ऐसे में पतंजलि को भ्रामक प्रचार का दोषी पाया गया।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends