बढ़ते NPA के जिम्मेदार बड़े बकायेदार, जिनसे पैसे वसूल करना है बड़ी चुनौती: अरूण जेटली

Medhaj News  |  Business & Economy  |  11 Sep 17,10:41:32  |  
jaitly.jpg

वर्तमान समय में कई बैंक अड़चनों में चल रहे हैं। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने बैंकों की बढ़ती नॉन परफॉर्मिंग असेट (NPA) का जिम्मेदार बड़े चूककर्ताओं (बकायदारों) को ठहराया है। रविवार को अरूण जेटनी ने कहा कि बकायदारों को बड़ी वजह बताते हुए कहा है कि इन बड़े लोगों से पैसे वसूल करना एक बड़ी चुनौती बन गई है।

अरूण जेटली ने पुणे जिले केंद्रीय सहकारी बैंक (PDCC) के शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने के लिया यहां आये हुए थे। वहीं राकांपा अध्यक्ष शरद पवार पिछले 50 सालों से इस बैंक से जुड़े हुए हैं। इस दौरान रविवार को वित्त मंत्री अरूण जेटली, राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व पूर्व केंद्रीय मंत्री व राष्ट्रवादी कांग्रेक अध्यक्ष शरद पवार इस कार्यक्रम में एक ही मंच पर मौजूद थे।

छोटे बकायदार नहीं बड़े बकायेदार है जिम्मेदार-

जेटली ने कहा कि जब भी छोटे कर्जदार बैंकों से लोन लेते हैं, NPA कम होते हैं। जब भी बड़े बैंक में बड़े NPA होते हैं तो वह छोटे लोगों के कारण नहीं बल्कि बड़े लोगों के कारण होते हैं और इन लोगों से पैसा किस तरह से वसूल किया जाये, इस समय यह एक बड़ी चुनौती बन गई है।

जेटली ने साफ तौर पुर कहा कि छोटे बकायदारों से बैंक को उतना फर्क नहीं पड़ता, जितना एक बड़े बकायेदार से पड़ता है।

देश के विकास के लिए अहम भूमिका निभाते हैं बैंक-

उन्होंने यह भी कहा है कि बैंक देश के विकास के लिए एक अहम भूमिका निभाते हैं... बैंक खेती, शिक्षा, व्यवसाय आदि के लिए जरूरतमंदों को लोन देते हैं, जिससे न केवल आम जन का विकास होता है बल्कि पूरे देश का विकास होता है। 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...