कच्चे तेल के दाम में कमी आई, बढ़ी एक्साइज ड्यूटी

Medhaj News 14 Mar 20 , 06:01:40 Business & Economy
petrol.png

कोरोना वायरस का असर लोगों की दिनचर्या के साथ ही दुनिया की अर्थव्यवस्था पर भी देखा जा रहा है | कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर के कारोबार को झटका लगा है | कोरोना के असर के चलते दुनिया में तेल को लेकर प्राइज वॉर भी देखने को मिल रहा है | इस बीच भारत में पेट्रोल-डीजल पर तीन रुपये प्रति लीटर के हिसाब से एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी गई है | दुनिया में तेल पर छिड़े प्राइज वॉर के बीच कच्चे तेल के दाम में कमी आई है |  जिसके कारण पेट्रोल-डीजल के दाम में मामूली गिरावट हर दिन देखने को मिल रही हैं | हालांकि कीमतें गिरने का फायदा भारत में ग्राहकों को मिलता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है | वहीं एक्साइज ड्यूटी तीन रुपये बढ़ाए जाने से ग्राहकों पर इसका असर भी ज्यादा नहीं होगा | दरअसल, भारत में पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी ऐसे वक्त में बढ़ाई गई है, जब पूरी दुनिया में कच्चे तेल की कीमतें घट गई हैं | दुनिया में तेल पर छिड़े प्राइज वॉर के बीच कच्चे तेल के दाम में कमी आई है | जिसके कारण पेट्रोल-डीजल के दाम में मामूली गिरावट हर दिन देखने को मिल रही हैं | हालांकि कीमतें गिरने का फायदा भारत में ग्राहकों को मिलता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है | वहीं एक्साइज ड्यूटी तीन रुपये बढ़ाए जाने से ग्राहकों पर इसका असर भी ज्यादा नहीं होगा |





दरअसल, भारत में पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी ऐसे वक्त में बढ़ाई गई है, जब पूरी दुनिया में कच्चे तेल की कीमतें घट गई हैं | एक्साइज ड्यूटी बढ़ाए जाने के बाद भी ग्राहकों के लिए कीमतें थोड़ी कम हुई हैं | पेट्रोल की कीमतें 13 मार्च को दिल्ली-70, कोलकाता-72.70, मुंबई-75.70, चेन्नई-72.71 रुपये थीं तो वहीं 14 मार्च को कीमत दिल्ली-69.87, कोलकाता-72.57, मुंबई 75.57 और चेन्नई-72.57 रुपये हो गई है | इसके अलावा डीजल की कीमतें 13 मार्च को दिल्ली-62.74, कोलकाता-65.07, मुंबई-65.68, चेन्नई-66.19 रुपये थीं वो वहीं 14 मार्च को कीमत दिल्ली-62.58, कोलकाता-64.91, मुंबई-65.51 और चेन्नई-66.02 रुपये हो गई है | बता दें कि दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने के बाद बढ़ी आशंकाओं के बीच अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में भारी गिरावट आई है | इसकी वजह से भारतीय मुद्रा रुपया भी डॉलर के मुकाबले कमजोर हुआ है |





जानकारों के मुताबिक कोरोना के चलते आने वाले दिनों में कच्चे तेल में और भी ज्यादा गिरावट देखने को मिल सकती है | एक तरफ दुनिया में कोरोना वायरस की मार है, दूसरी ओर रूस-ओपेक देशों में कच्चे तेल के दाम पर बात नहीं बन पाई | रूस के साथ ओपेक देशों का तीन साल का समझौता तब खत्म हुआ, जब रूस ने नए दाम के सिस्टम पर हामी भरने से इनकार कर दिया | क्रूड ऑयल के मसले पर इस डील के न होने के कारण एशिया के शेयर बाजारों में भी हलचल बढ़ी और शेयर बाजारों में गिरावट दर्ज की गई |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends