GSK को हिंदुस्तान यूनिलीवर ने खरीदा, FMCG सेक्टर की सबसे बड़ी डील

Medhaj News 4 Dec 18 , 06:01:38 Business & Economy
HUL.jpg

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी कन्ज्यूमर गुड्स कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर लि. (एचयूएल) ने हॉर्लिक्स बनाने वाली कंपनी ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (जीएसके) कन्ज्यूमर इंडिया के अधिग्रहण का ऐलान किया। इसके लिए एचयूएल को 31 हजार 700 करोड़ रुपये चुकाने होंगे। यह देश के कन्ज्यूमर गुड्स मार्केट की सबसे बड़ी डील है। 

एचयूएल के चेयरमैन संजीव मेहता ने कहा, 'जीएसकेसीएच इंडिया के साथ प्रस्तावित रणनीतिक विलय के साथ ही हम अपना पोर्टफोलियो नई कैटिगरी के बड़े ब्रैंड्स में बढ़ाएंगे ताकि अपने ग्राहकों की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा कर सकें।' उन्होंने आगे कहा, 'हमारा फूड एवं रीफ्रेशमेंट बिजनस बढ़कर 10 हजार करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा और हम देश में इस क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियों में शुमार होंगे।' 

यूनिलीवर के अनुसार, इस सौदे में बांग्लादेश समेत 20 अन्य एशियाई बाजारों का कारोबार शामिल है। एचयूएल जहां जीएसकेसीएच इंडिया में शेयरों का लेनदेन करके सौदा करेगी। इसके तहत जीएसके इंडिया के हर शेयर के लिए एचयूएल के 4.39 शेयर आवंटित किये जाएंगे। वहीं, जीएसके बांग्लादेश लिमिटेड में 82 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी जाएगी।

इस सौदे में भारत से बाहर के कुछ वाणिज्यिक परिचालन और परिसंपत्तियां शामिल हैं। एचयूएल ने कहा, इस संबंध में एचयूएल और जीएसके सीएच इंडिया एक निश्चित समझौते पर पहुंच चुके हैं। उसके निदेशक मंडल ने जीएसकेसीएच इंडिया के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी है। यूनिलीवर के अध्यक्ष (खाद्य एवं पेय) नितिन परांजपे ने कहा, दुनियाभर में हॉरलिक्स ब्रांड की अपनी विरासत, प्रतिष्ठा और विश्वसनीयता है।

यह अधिग्रहण हमारे खाद्य एवं पेय कारोबार का विस्तार करेगा और हमें स्वास्थ्यवर्द्धक खाद्य एवं पेय श्रेणी में पहुंच बनाने में मदद करेगा। इस मौके पर एचयूएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक संजीव मेहता ने कहा, जीएसके इंडिया के साथ इस प्रस्तावित रणनीतिक विलय से हम अपने उत्पादों का दायरा बढ़ायेंगे। अच्छे ब्रांड के साथ हम अपने ग्राहकों की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए नयी श्रेणी में कारोबार करेंगे।

उन्होंने कहा कि अधिग्रहण के बाद कंपनी के खाद्य एवं पेय कारोबार का आकार 10,000 करोड़ रुपये हो जाएगा। मेहता ने कहा, हम देश में खाद्य एवं पेय कारोबार करने वाली सबसे बड़ी कंपनियों में से एक होंगे। बयान के अनुसार, मार्च 2018 को समाप्त वित्त वर्ष में जीएसके इंडिया का कुल कारोबार 4,200 करोड़ रुपये रहा।

इसमें सबसे अहम हिस्सेदारी हॉरलिक्स और बूस्ट ब्रांड की है। जीएसके सीएच इंडिया के साथ विलय में जीएसके सीएच के प्रत्येक शेयर के बदले उसे एचयूएल में 4.39 शेयर कर हिस्सेदारी दी जाएगी। इस प्रकार जीएसके के 100 प्रतिशत शेयर खरीद का मूल्य 31,700 करोड़ रुपये होगा. विलय के बाद नयी बननेवाली कंपनी में एचयूएल में यूनिलीवर की हिस्सेदारी 67.2 प्रतिशत से घटकर 61.9 प्रतिशत रह जाएगी।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like