RBI ने नहीं घटाई ब्याज दरे : EMI में भी नहीं आई कमी

medhaj news 6 Dec 17 , 06:01:37 Business & Economy
RBI.jpg

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आज अपनी मौद्रिक नीति का ऐलान कर दिया। अपने ऐलान में आरबीआई ने ब्यज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। जिससे आपकी ईएमआई जस की तस रहेगी।



आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल ने आज मौद्रिक नीति का ऐलान करते हुए कहा कि ब्याज दर को 6 प्रतिशत से परिवर्तित नहीं किया जाएगा। इसके अलावा उर्जित पटेल ने तीसरी और चौथी तिमाही के लिये अनुमानित महंगाई दर 4.3 से बढ़ाकर 4.7 प्रतिशत कर दिया। जबकि आर्थिक वृद्धि के अनुमान को 6.7 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रखा।



आरबीआई गवर्नर ने आगाह करते हुए कहा कि कृषि ऋण माफी, ईंधन पर उत्पाद शुल्क में आंशिक कमी, कई वस्तुओं पर जीएसटी दर घटाने से राजकोषीय लक्ष्य गड़बड़ा सकते हैं। इसके अलावा उर्जित पटेल ने इससे डिजिटल भुगतान को और प्रोत्साहित करने के लिए डेबिट कार्ड से लेनदेन पर शुल्कों को तर्कसंगत बनाने का फैसला किया। 



रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा बैंकों को पूंजी उपलब्ध कराने के लिये पुनर्पूंजीकरण बॉंड पर सरकार के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बैंकों को नई पूंजी उपलब्ध कराना उनमें केवल पूंजी डालना ही नहीं बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सुधारों को आगे बढ़ाना भी है।



अगस्त में घटी थी ब्याज दरें रिजर्व बैंक ने 2 अगस्‍त को हुई मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी की बैठक में रेपो रेट 0.25 फीसदी कम किया गया था। इस कटौती के बाद रेपो रेट 6 फीसदी पर आ गया था। इसके बाद रिजर्व बैंक ने अक्‍टूबर में हुई एमपीसी की मीटिंग में पॉलिसी रेट में कोई बदलाव नहीं किया था। इसके लिए रिजर्व बैंक ने महंगाई बढ़ने का हवाला दिया था।



अगर रिजर्व बैंक ब्याज दरें कम करता है तो आम आदमी, बिजनेस मैन से लेकर इंडस्ट्री सबको फायदा मिलता है। आम लोगों के लिए पर्सनल लोन, होम लोन, कार लोन और बिजनेस लोन सस्‍ता होगा वहीं इकोनॉमिक एक्टिविटी बढ़ने से मांग बढेंगी और इंडस्‍ट्री को भी इसका फायदा मिलेगा। इसके अलावा इंडस्‍ट्री को भी कम लागत में फंड मिलेगा।



 


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like