Headline



भारतीय रेलवे के इतिहास में पहली बार, बाबा महाकाल के लिए सीट रिजर्व की गई

Medhaj News 17 Feb 20 , 06:01:40 Business & Economy
train_seat.png

काशी महाकाल एक्सप्रेस के कोच B5 में सीट नंबर 64 पर भगवान की तस्वीर को बड़ी साज-सज्जा के साथ रखा गया | भारतीय रेलवे के इतिहास में यह पहली बार है जब बाबा महाकाल के लिए ट्रेन में सीट रिजर्व की गई | बता दें कि यह ट्रेन रविवार को वाराणसी से इंदौर के लिए रवाना हुई है | वाराणसी से इंदौर के बीच सप्ताह में तीन बार चलने वाली इस ट्रेन में भक्ति भाव वाली हल्की ध्वनी से संगीत बजेगा | रविवार को ट्रेन में 'ओम नम: शिवाय' की धुन बज रही थी | ट्रेन के प्रत्येक कोच में दो निजी गार्ड होंगे और यात्रियों को शाकाहारी खाना परोसा जाएगा | यह देश की तीसरी प्राइवेट ट्रेन है |





ट्रेन वाराणसी कैंट स्टेशन से मंगलवार और गुरुवार को दोपहर 2.45 बजे और रविवार को दोपहर 3.15 बजे चलेगी और दूसरे दिन सुबह 8:30 बजे उज्जैन महाकालेश्वर और 9.40 बजे इंदौर ओंकारेश्वर पहुंचेगी | ट्रेन का परिचालन भारतीय रेलवे के IRCTC द्वारा किया जाएगा | अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि काशी महाकाल एक्सप्रेस यूपी और मध्य प्रदेश के प्रमुख धार्मिक स्थलों को जाने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधा देगी |





इससे दोनों ही प्रदेशों के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा | वाराणसी से इंदौर के बीच 20 फरवरी से चलाई जाने वाली काशी-महाकाल एक्सप्रेस में 8 तीर्थस्थलों के भ्रमण का पैकेज भी होगा | आईआरसीटीसी ने वाराणसी, अयोध्या, प्रयागराज, इंदौर, उज्जैन, भोपाल के धार्मिक व पर्यटन स्थलों के लिए पैकेज तैयार किया है | रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि काशी महाकाल एक्सप्रेस यूपी और मध्य प्रदेश के प्रमुख धार्मिक स्थलों को जाने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधा देगी | इससे दोनों ही प्रदेशों के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा |




    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends