लखनऊः बेटे की हत्या, मां ने गुनाह कबूला,कहा- इसलिए मार डाला

Medhaj news 22 Oct 18,19:13:07 Election
meera_yadav_arr.jpg

उत्तर-प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत यादव की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है | मां मीरा यादव ने खुद हत्या का जुर्म कुबूल किया है | पुलिस ने जब मीरा और उनके बड़े बेटे अभिषेक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो इसका खुलासा हुआ | उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे अभिजीत यादव की हत्या का मामला अब खुलता जा रहा है | शुरुआत में परिजनों ने इसे सामान्य मौत बताया था, लेकिन शव के अंतिम संस्कार को लेकर जिस तरह से हड़बड़ी की गई उसे देखकर पुलिस को शक हुआ और उसने लाश का पोस्टमार्ट्म कराया |

रिपोर्ट आने के बाद पुलिस की ओर से की गई पूछताछ के बाद मां मीरा यादव को गिरफ्तार कर लिया गया | अभिजीत के बड़े भाई अभिषेक की तरफ से मां मीरा पर धारा 302 का एफआईआर भी दर्ज कराया गया | मां का कहना है कि बेटे अभिजीत ने पहले उसे मारने की कोशिश की | सूत्रों की मानें तो मीरा ने अपना गुनाह कबूल भी कर लिया है | अभिजीत की मां मीरा ने पुलिस हिरासत में कबूला है कि उसने ही अपने बेटे की हत्या गला दबाकर की | उनका कहना है कि अभिजीत नशे में था, वह उनसे बदतमीजी कर रहा था और उसने उन्हें मारने की भी कोशिश की |

ये भी पढ़े - अमृतसर हादसा: इमरजेंसी ब्रेक लगाए, पर पथराव देख नहीं रोकी ट्रेन-ड्राइवर

पुलिस की ओर से 9 घंटे की गई पूछताछ में मीरा यादव ने सफाई देते हुए बताया कि झगड़े के दौरान अपना बचाव करते समय उन्होंने पीछे से उसके सिर पर वार किया | फिर छीना-छपटी के दौरान पलटवार करते हुए चुन्नी से अभिजीत का गला घोंट दिया | अभिजीत को मारने के बाद उसने अपनी चुन्नी जला दिया | कहा जा रहा है कि अभिजीत शराब का आदी था | वह अक्सर घर पर गाली-गलौज और मारपीट किया करता था |

इस हत्या के बारे में बात करते हुए एसपी ईस्ट सर्वेश मिश्रा ने कहा कि हमें 21 अक्टूबर को अभिजीत यादव का शव दारूल शफा से बरामद हुआ, पहले तो परिवार ने इस प्राकृतिक मौत बताया लेकिन हमें शक हुआ | पोस्टमार्टम के बाद ये साफ हुआ कि ये मौत नहीं हत्या है और गला दबा कर ही हत्या की गई है | आपको बता दें कि इस मामले के बारे में अभिजीत के बड़े भाई अभिषेक ने ही पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी | अभिषेक ने ही अपनी मां के खिलाफ 302 के तहत मुकदमा दर्ज करवाया है |

ये भी पढ़े - CBI में भूचाल- दो अफसरों के भिड़ने की इनसाइड स्टोरी

सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौत को संदिग्ध बताया है, लेकिन परिवार की ओर से कोई शिकायत दर्ज न कराने पर शव को परिवार के हवाले कर दिया | इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि विवेक दारुल शिफा के बी ब्लॉक के कमरा नंबर 137 में रहता था | शनिवार रात खाना खाने के बाद वह मां और भाई के साथ कमरे में सोया था। अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद उसकी मौत हो गई | उधर मामला संदिग्ध देख पुलिस ने शव को अंतिम संस्कार से रोक दिया | जब पोस्टमार्टम हुई तो गला दबाकर हत्या का चौंकाने वाला खुलासा हुआ | जिसके बाद पुलिस ने मां और बड़े भाई अभिषेक को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है | पूछताछ के दौरान मां मीरा यादव ने हत्या का जुर्म कुबूल किया है |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends