लोकसभा चुनाव 2019: मोदी और प्रशांत किशोर फिर से मिलकर दोहराएंगे इतिहास

medhaj news 26 Feb 18,17:22:53 Election
modi_with_pk.jpg

2019 में लोकसभा चुनाव होने वाले है ऐसे में बीजेपी पर इतिहास दोहराने का दबाव रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वर्ष 2014 में शानदार जीत के पीछे चुनावों के रणनीतिकार प्रशांत किशोर का बड़ा हाथ माना जाता है। लेकिन 2014 के चुनावों के बाद पहले वह बिहार में नीतीश कुमार के रणनीतिकार बने और इसके बाद उन्होंने राहुल गांधी के लिए रणनीति बनाई। लेकिन जिस तरह से उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में पार्टी को मुंह की खानी पड़ी उसके बाद से पीके पर सवाल खड़े होने लगे थे। ऐसे में एक बार फिर से प्रशांत किशोर टीम मोदी के साथ वापस लौट सकते हैं।

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशांत किशोर से मुलाकात हुई है, ऐसे में माना जा रहा है कि एक बार फिर से दोनों मिलकर 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी के लिए रणनीति बना सकते हैं। इस पूरे मामले की जानकारी रखने वाले पार्टी के एक शीर्ष सूत्र का कहना है कि पीके और मोदी की पिछले महीने मुलाकात हुई है और संभव है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की चुनावी रणनीति बनाएं।

प्रशांत ने बनाई है अपनी अलग पहचान
पिछेले कुछ सालों में प्रशांत ने अपनी अलग ही पहचान बना ली है। पहले तो 2012 में गुजरात विधानसभा चुनाव और फिर 2014 में लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की जीत के बाद प्रशांत किशोर पर सबकी नजर थी। लेकिन कुछ ऐसे कारण बने की मोदी और प्रशांत की राह लग हो गई।
 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like