भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर ने भाजपा के खिलाफ किया जंग का एलान

Medhaj news 14 Sep 18,16:05:14 Entertainment
chandra_vs_yogi.jpg



भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण ने रिहा होते ही बीजेपी पर हमला बोल दिया है। चंद्रशेखर को देर रात रिहा किया गया। चंद्रशेखर ने जेल से बाहर मौजूद समर्थकों के साथ मार्च किया और उन्हें संबोधित करते हुए बीजेपी पर हमला बोला। चंद्रशेखर ने अपने हाथों में संविधान की एक प्रति को दिखाते हुए कहा कि अभी तो लड़ाई शुरू हुई है। सहारनपुर में 2017 में हुई जातीय हिंसा के मुख्य आरोपी और भीम सेना के मुखिया चंद्रशेखर उर्फ रावण को सरकार ने रिहा कर दिया है। रावण को एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत जेल भेजा गया था।





वह लगभग 16 महीने से जेल में बंद था। रावण को गुरुवार रात करीब 2:24 बजे जेल से रिहा किया गया।रावण की रिहाई के दौरान काफी समर्थक जेल के बाहर जमा रहे। जेल के चारों तरफ कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार के इस फैसले को 2019 के एक चुनावी दांव के रूप में भी लिया जा रहा था। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव से पहले भीम आर्मी और दलितों की नाराजगी को दूर करने के लिए योगी सरकार ने यह फैसला लिया। हालांकि रिहाई के तुरंत बाद चंद्रशेखर ने जिस तरह से बीजेपी पर निशाना साधा है उससे सवाल खड़ा हो रहा है कि कहीं यह दांव उल्टा न पड़ जाए।





प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि, चंद्रशेखर उर्फ रावण को रिहा करने का आदेश सहारनपुर के जिलाधिकारी को गुरुवार को ही भेज दिया गया था। रिहाई का फैसला उनकी मां के प्रार्थना पत्र पर लिया गया है। चंद्रशेखर के जेल में बंद रहने की अवधि 1 नवंबर 2018 तक थी। चंद्रशेखर के साथ बंद दो अन्य आरोपियों सोनू पुत्र नथीराम और शिवकुमार पुत्र रामदास निवासी शब्बीरपुर को भी रिहा करने का निर्णय किया गया है। प्रदेश सरकार का यह फैसला दलित हितैषी छवि का संदेश देने का हिस्सा माना जा रहा है।चंद्रशेखर उर्फ रावण को मई 2017 में सहारनपुर के शब्बीरपुर में जातीय हिंसा फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। चंद्रशेखर भीम सेना बनाकर सुर्खियों में आए थे। उन्हें 8 जून 2017 को हिमाचल प्रदेश से गिरफ्तार किया था।





रावण की गिरफ्तार को लेकर दलित समाज में काफी विरोध हुआ था। गिरफ्तारी के बाद जिला प्रशासन को सहारनपुर में दो दिनों तक इंटरनेट सेवा बंद रखनी पड़ी थी। इसे लेकर राजनीति भी खूब हुई।मायावती शब्बीरपुर पहुंची थीं, जिसके बाद हिंसा और भड़क गई थी। वहां के तत्कालीन जिलाधिकारी और एसएसपी को हटा दिया गया था। बाद में एसएसपी को निलंबित कर दिया गया था।कांग्रेस व आम आदमी पार्टी सीधे तौर पर चंद्रशेखर के पक्ष में खड़ी थी।



ये भी पढ़े - अब रोबोट्स बताएंगे आप पर कौन सी ड्रेस सबसे ज्यादा जंचेगी



बीते दिनों आम आदमी पार्टी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जेल में बंद चंद्रशेखर से मिलने की अनुमति मांगी थी, लेकिन सरकार ने उन्हें अनुमति नहीं दी।वहीं, सहारनपुर की जेल से रिहाई के तुरंत बाद चंद्रशेखर रावण ने सभा को संबोधित किया | इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर जोरदार हमला बोला | रावण ने कहा कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव में BJP को हराना है | बीजेपी सत्ता में तो क्या विपक्ष में भी नहीं आ पाएगी | बीजेपी के गुंडों से लड़ना है | उन्होंने कहा कि सामाजिक हित में गठबंधन होना चाहिए |


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like