पूर्वोत्तर भारत में बाढ़ के कारण मची तबाही, अब तक 4 लाख लोग प्रभावित

Medhaj news 18 Jun 18,20:26:47 Entertainment
PTI7.jpg

राज्य असम, त्रिपुरा और मणिपुर में पिछले सप्ताह भारी बारिश से आए बाढ़ के बाद हालत अब भी काफी नाजुक बताई जा रही है। मूसलाधार बारिश से आए बाढ़ और फिर भूस्खलन से काफी जानमाल का नुकसान पहुंचा। मणिपुर और त्रिपुरा में बाढ़ के कारण हुए भूस्खलन में कम से कम 21 लोगों की जानें गईं। जबकि असम और त्रिपुरा में बाढ़ प्रभावित इलाकों से करीब 30,000 लोगों को बचाया गया।असम में बाढ़ से स्थिति बहुत खराब है, असम राज्य आपदा प्रबंध प्राधिकरण के मुताबिक होजई, कर्बी आंगलांग पश्चिम, गोलाघाट, करीमगंज, हेलकांडी और कचरा जिलों में 4 लाख से भी ज्यादा लोग बाढ़ प्रभावित हुए हैं। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं। लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से निकाला जा रहा है।  शनिवार को त्रिपुरा के कैलाशहर और असम के हैलाकांडी में बाढ़ प्रभावितों के बीच भारतीय वायु सेना के जवानों ने लगभग 8 टन की राहत सामग्री बांटी।

मणिपुर में बाढ़ से जनजीवन अस्त-व्यस्त केंद्र से मांगी मदद
हालांकि मणिपुर में स्थिति थोड़ी संभली है। राजधानी इंफाल में भी हालात कुछ काबू हुए हैं, लेकिन थॉबल, इंफ़ाल वेस्ट में हालात जस के तस बने हुए हैं। मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने रविवार को कहा कि उन्होंने फोन पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात की और राज्य में बाढ़ की स्थिति के बारे में उन्हें जानकारी दी है। साथ ही बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए तत्काल मदद की भी मांगी है। मिजोरम में बाढ़ का कहर बढ़ता ही जा रहा है, खासकर उत्तरी मिजोरम के 25 गांवों की स्थिति खराब है। गौरतलब है कि दो दिन पहले असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने कहा था कि राज्य में फिलहाल 668 गांव बाढ़ की चपेट में है। बाढ़ की वजह से अभी तक कुल 1912 हेक्टेयर में लगी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। स्थानीय प्रशासन के अनुसार अकेले गुवाहाटी शहर में चार जगहों पर भूस्खलन हुआ है।
केंद्रीय जल आयोग के अनुसार, ब्रह्मपुत्र नदी का जल स्तर 4-5 सेंटीमीटर प्रतिघंटे क रफ्तार से बढ़ रहा है। साथ ही चेतावनी जारी की है कि अगले 2 से 3 दिनों में यह खतरे के निशान तक पहुंच जाएगा।
इसके पहले रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीति आयोग की चौथी बैठक की अध्यक्षता करते हुए राज्य सरकारों को सुनिश्चित किया था कि बाढ़ प्रभावित सभी इलाकों को केंद्र सरकार भरपूर मदद करेगी।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends

    Special Story