पारदर्शिता लाने के लिए जेम पोर्टल से जुड़ेंगे कई विभाग

मुख्यमंत्री Yogi Adityanath की भ्रष्टाचार को लेकर Zero tolerance की नीति में Gem Portal काफी कारगर साबित हो रहा है। CM की मंशा के मुताबिक Gem Portal को और प्रभावी बनाने के लिए अन्य सभी सरकारी विभागों को भी जोड़ा जाएगा। इसके लिए विभिन्न विभागों की कार्यशालाएं भी शुरू की गई हैं। Gem Portal पर मौजूद उत्पाद या सेवा की खरीद किसी अन्य माध्यम से करने वालों पर विभागाध्यक्ष तरफ से कार्रवाई भी की जाएगी। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (MSME) और निर्यात प्रोत्साहन विभाग के अपर मुख्य सचिव Navneet Sehgal ने Gem Portal की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि CM Yogi की मंशा के अनुरूप Gem Portal को पारदर्शिता के लिए लागू किया गया है। इससे एक तो सरकारी पैसे की बचत होती है, दूसरा Quality उत्पाद या सेवाएं भी विभागों को मिलते हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि जो विभाग अभी Gem Portal से नहीं जुड़ पाए हैं, उन्हें प्राथमकिता के आधार पर जोड़ा जाए, साथ ही साथ प्रदेश के विक्रेताओं का पंजीकरण Gem Portal पर बड़े पैमाने पर किया जाए। 

नोडल विभाग MSME ने विक्रेताओं का पंजीकरण एक Mission mode में किया। जिस कारण अब Gem Portal पर 91,245 विक्रेता पंजीकृत हैं, जिसमें 40,234 MSE इकाईयां हैं। इस साल 21 जनवरी तक 7775 करोड़ से ज्यादा की खरीदारी जेम के माध्यम से की गई है। Gem Portal पर 3108 प्राइमरी यूजर्स और 8576 सकेण्डरी यूजर का पंजीकरण हो चुका है। प्रदेश के कुछ विभागों के खरीदारों की ओर से Gem Portal पर उपलब्ध उत्पाद और सेवाओं का क्रय E tender के माध्यम से किया जा रहा है, जबकि इस बाबत मुख्य सचिव के स्पष्ट निर्देश हैं कि जो उत्पाद या सेवाएं Gem Portal पर उपलब्ध हैं, उनकी खरीद अनिवार्य रूप से Gem Portal से ही की जाए। सभी शासकीय विभागों से यह अपेक्षा की गई है कि वह अपने विभाग से सम्बन्धित विक्रेताओं को Gem Portal पर पंजीकृत कराएं। Gem पर सर्विस श्रेणी की नवीन सेवाओं को भी शामिल किया गया है।


    Share this story