नितीश का बड़ा फैसला:बिहार में इ-सिगरेट पर लगी पाबंदी,सिगरेट बेचने और पीने वाले को क्या होगी सजा जाने यहाँ

medhaj news 9 Jan 18 , 06:01:38 Governance
e_cigarette.jpg

बिहार में नितीश सरकार ने स्वास्थ्य को लेकर एक बड़ा फैसला लिया | बिहार में इ-सिगरेट पर बैन  लगा दिया  गया है | औषधि नियंत्रक रवींद्र कुमार सिन्हा के आदेश में कहा गया है-ई (इलेक्ट्रॉनिक) सिगरेट के जरिए निकोटिन का गलत इस्तेमाल हो रहा है।

 1 से 3 साल की सजा और 5 हजार रुपए जुर्माना

इसके क्रय-विक्रय (ऑनलाइन सहित), विज्ञापन, विक्रय के लिए प्रदर्शन, निर्माण, भंडारण, वितरण आदि पर पूर्ण नियंत्रण के लिए, इसके उल्लंघनकर्ताओं के विरुद्ध सुसंगत धाराओं में कार्रवाई करें। इन धाराओं में 1 से 3 साल की सजा और 5 हजार रुपए जुर्माना का प्रावधान है।

यह आदेश सभी सहायक औषधि नियंत्रक, औषधि निरीक्षकों को दिया गया है। सिविल सर्जनों से कार्रवाई को कहा गया है। आदेश में, ई-सिगरेट से जुड़ी असलीयत स्पष्ट की गई है। कहा गया है-बिहार में इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम के माध्यम से निकोटिन युक्त उत्पाद का दुरूपयोग किया जा रहा है। यह रोका जाए। 

जानिए, क्या है ई-सिगरेट

ई-सिगरेट या ईलेक्ट्रानिक सिगरेट ऐसा यंत्र है जो देखने में साधारण सिगरेट जैसा लगता है। इसमें एक बैटरी और एक कारट्रिज होती है। कारट्रिज में निकोटीन युक्त तरल पदार्थ होता है जो बैट्री की सहायता से गर्म होकर निकोटीन युक्त भाप देता है। उसे सिगरेट के धुएं की तरह लोग पीते हैं।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends