2 सीटों से चुनाव नहीं लड़ सकेंगे नेता! सरकारी बकाया तो खैर नहीं

मेधज न्यूज़ 13 Dec 16 , 06:01:36 Governance
naseem_jaidi.jpg

जल्द ही चुनाव में खड़े उम्मीदवार दो सीटों से चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। इसके लिए चुनाव आयोग ने कानून मंत्रालय को भेजे गए चुनाव सुधार के प्रस्ताव में इस बात की बकायदा सिफारिश भी की है। चुनाव आयोग के प्रस्ताव में सिफारिश की है कि उम्मीदवारों के दो सीटों पर चुनाव लड़ने के प्रावधान को खत्म कर देना चाहिए। उन्हें सिर्फ एक ही सीट पर चुनाव लड़ने की आजादी होनी चाहिए।

सीट छोड़ा तो खैर नहीं

चुनाव आयोग ने कहा है कि, अगर सरकार इस प्रवाधान को बनाए रखना चाहती है तो उपचुनाव का खर्च उठाने की जिम्मेदारी सीट छोड़ने वाले उम्मीदवार पर डाली जाए। फिलहाल, विधानसभा और विधानपरिषद् के उपचुनाव के मामले में 5 लाख रूपए, जबकि लोकसभी उपचुनाव के मामले में राशि 10 लाख रूपए होनी चाहिए। हालांकि, सरकार इसे समय-समय पर बढ़ा सकती है।

चुनाव आयोग से साफ तौर पर कहा, प्रत्याशी का सीट छोड़ना वोटरों से अन्याय के समान है। ऐसा कर सदस्य उनका अपमान करते हैं।

सरकारी बकाया है तो नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

चुनाव आयोग ने अपनी सिफारिश में कहा है कि अगर उम्मीदवार पर किसी सरकारी एजेंसी का बकाया है, तो वह चुनाव नहीं लड़ सकेगा।

1996 में हुए थे संशोधन

इससे पहले चुनाव आयोग ने 2004 में सिफारिश भेजी थी, लेकिन उस पर कार्रवाई नहीं हो सकी थी। 1996 में संसद में पारित हुए संशोधनों में यह नियम बना दिया गया था कि कोई भी उम्मीदवार एक साथ दो सीटों पर चुनाव लड़ सकता है।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like