सिनेमा घरों में राष्ट्रगान की अनिवार्यता को लेकर केंद्र सरकार की अपील ,कहा देशभक्ति कोर्ट के आदेश के जरिए नहीं थोपी जा सकती

medhaj news 9 Jan 18 , 06:01:38 Governance
Cinema_hall.jpg

सिनेमा घरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान के बजाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला था की ,हर सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान बजाना अनिवार्य है | इस फैसले पर केंद्र सरकार ने आपत्ति जताते हुए अपील की कहा देशभक्ति कोर्ट के आदेश के जरिए नहीं थोपी जा सकती | केंद्र सरकार ने सोमवार को अपने स्टैंड में बदलाव करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट को अपने उस आदेश में बदलाव करना चाहिए जिसमें कोर्ट ने सिनेमा हॉल में मूवी शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाए जाने को अनिवार्य किया है। सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने हलफनामा दायर कर कहा है कि इंटर मिनिस्ट्रियल कमिटी का गठन किया गया है ताकि वह नई गाइडलाइंस तैयार करे। अदालत को बताया गया कि जैसे ही पैनल की सिफारिश होगी उसके बाद इस मामले में आगे फैसला लिया जाएगा। मामले की सुनवाई मंगलवार को होगी।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 30 नवंबर, 2016 के आदेश में सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान के बजाने को अनिवार्य कर दिया था। उस दौरान लोगों को हर हाल में खड़े होना था। हालांकि बाद में दिव्यांगों के लिए अदालत ने अपने आदेश में संशोधन भी किया था। कोर्ट ने यह फैसला श्याम प्रसाद चौकसे की याचिका पर दिया था। उनकी मांग थी कि आम जन में राष्ट्र के प्रति सम्मान जगाने का यह कारगर तरीका है।

सुप्रीम कोर्ट के अग्रिम आदेश तक गाना होगा राष्ट्रगान

फिलहाल सिनेमाघरों में राष्ट्रगान की अनिवार्यता तब तक बनी रहेगी, जब तक सुप्रीम कोर्ट अपने आदेश में सुधार कर इसमें ढील ना दे दे या फिर अंतरमंत्रालय समिति की रिपोर्ट ना आ जाए | यानी सिनेमाघरों, थियेटरों, सभागारों में अनिवार्य रूप से बजने वाले राष्ट्रगान के समय दिव्यांगों को छोड़कर सभी को सावधान की मुद्रा में खड़ा होकर राष्ट्रगान का सम्मान करना होगा |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like