नोटबंदीः RBI के जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ तो पीएम मोदी को बुला सकती है लोकलेखा समिति!

मेधज न्यूज़  |  Governance  |  9 Jan 17,16:36:30  |  
narendra_modi.jpg

संसद की लोकलेखा समिति (पीएसी) नोटबंदी के मुद्दे पर वित्त मंत्रालय के अधिकारियों और भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल का जवाब संतोषजनक नहीं हुआ तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुला सकती है। इस संबंध में समिति ने वित्त मंत्रालय औऱ रिजर्व बैंक के गवर्नर को नोटबंदी को लेकर विस्तृत प्रश्नावली भेजी है। बता दें, पीएसी ने नोटबंदी को लेकर 20 जनवरी को बैठक बुलाई है।

पीएसी द्वारा बुलाई गई इस बैठक में रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल, वित्त सचिव अशोक लवासा आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास को उपस्थित भी होना है। पीएसी के अध्यक्ष और कांग्रेसी नेता केवी थॉमस ने कहा कि, हमने जो सवाल उन्हें भेजा है, उसका अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। अगर ने 20 जनवरी से पहले जवाब भेजते हैं तो उस पर हम विस्तृत से चर्चा करेंगे।

इसे भी पढ़े - BJP ने पीएम मोदी के खिलाफ फतवा जारी करने वाले इमाम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई!

पीएसी से पूछे जाने पर कि अगर वे जवाब से संतुष्ट नहीं हुए तो वे प्रधानमंत्री को बुला सकते हैं। थॉमस ने कहा कि, समिति को किसी को बुलाने का अधिकार है। हालांकि, यह 20 जनवरी की बैठक के बाद के परिणाम पर निर्भर करता है कि प्रधानमंत्री को बुलाना है कि नहीं। अगर समिति के सदस्य सर्वसम्मति से चाहे तो प्रधानमंत्री को नोटबंदी के मसले पर बुला सकती है।

इसे भी पढ़े - केरलः मुख्यमंत्री के भरोसे के बाद आईएएस अधिकारियों ने सामूहिक छुट्टी कैंसिल की!

थॉमस ने कहा था कि, 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। ऐसे में पीएम मोदी ने कहा था कि, 50 दिन में हालात सामान्य हो जाएंगे, मगर ऐसा नहीं दिखता है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...