प्रधानमंत्री कार्यालय ने BSF जवान की शिकायत की रिपार्ट मांगी!

मेधज न्यूज़  |  Governance  |  12 Jan 17,15:20:00  |  
pm_modi.jpg

बीएसएफ जवान तेजबहादुर ने सेना की सुविधाओं की कलई खोल कर रख दी। जिसके बाद गृहमंत्रालय भी हरकत में आ गई। ऐसे में तेजबहादुर के आरोपों को प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी संज्ञान में लिया है। गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय ने इस मामले में गृहमंत्रालय से रिपोर्ट मांगी है। पीएमओ यह पता लगाने की कोशिश कर रहा है कि क्या सरकार की ओर से दी जा रही सुविधाएं जवानों तक पहुंच रही है या नहीं?

इसे भी पढ़े - BSF जवान के बाद CRPF के जवान ने उठाए व्यवस्था और सुविधाओं पर सवाल.... देखें वीडियो!

बता दें, गृहमंत्रालय पहले ही मामले में उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए थे। वहीं बीएसएफ भी मामले की जांच कर रही है। लेकिन, जवान तेजबहादुर के वीडियो को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। तेजबहादुर ने आरोप लगाया था कि, उस पर वीडियो हटाने और माफी मांगने का दबाव बनाया जा रहा है। इसके अलावा बीएसएफ ने कहा है कि, मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है। जांच पर असर न हो इसके लिए जवान को कैंप से हटाकर हेडक्वार्टर में तैनात किया गया है।

इसे भी पढ़े - राहुल गांधी ने उड़ाया पीएम मोदी का मजाक...तो केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दिया मुंहतोड़ जवाब!

इसके अलावा मामले में जवान की पत्नी ने भी कई तरह के सवाल खड़े किए हैं। वह अफसरों के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले हुई हैं। उन्होंने पूछा कि, अगर उनके पति मानसिक तौर पर ठीक नहीं है तो उन्हें बंदूक क्यों दे दी गई? बता दें, बीएसएफ ने कहा था कि, तेजबहादुर के बर्ताव की वजह से उसके खिलाफ कई बार अनुशासनात्मक कार्रवाई हो चुकी है। एक बार तो उसका कोर्ट मार्शल तक होना था, लेकिन उसके परिवार की हालत को देखते हुए कोर्ट मार्शल रद्द कर दिया गया था।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...