आप के 20 विधायकों के भाग्य का फैसला हुआ आज , रद्द हो सकती है सदस्यता

medhaj news 19 Jan 18 , 06:01:38 India
kejriwal_3.jpg

विधायकों को संसदीय सचिव बनाए जाने के मामले में यह कार्रवाई हुई है। आप के संसदीय सचिव पद को ‘लाभ के पद’ से अलग करने वाले बिल को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने खारिज कर दिया था। प्रशांत पटेल नाम के वकील ने राष्ट्रपति के पास एक याचिका दायर कर शिकायत की थी कि आम आदमी पार्टी के विधायक दिल्ली में लाभ के पद पर हैं, इसलिए इनकी सदस्यता रद्द होनी चाहिए। राष्ट्रपति ने ये याचिका चुनाव आयोग को भेजी और इस पर कार्रवाई करके रिपोर्ट देने को कहा था। वहीं, आप विधायकों ने आयोग में दायर किए अपने जवाब में कहा था कि वह किसी तरह की सुविधा नहीं ले रहे हैं।

क्या है मामला
आप पार्टी की दिल्ली सरकार ने मार्च 2015 में 21 विधायकों को संसदीय सचिव के पद पर नियुक्त किया था | इसे लाभ का पद बताते हुए प्रशांत पटेल नाम के वकील ने राष्ट्रपति के पास शिकायत की | पटेल ने इन विधायकों की सदस्यता खत्म करने की मांग की थी | हालांकि विधायक जनरैल सिंह के पिछले साल विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद इस मामले में फंसे विधायकों की संख्या 20 हो गई है |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends