सेना की बढ़ेगी ताकत, सुखोई जेट से दागी जाएगी ब्रह्मोस मिसाइल

Medhaj News 14 Nov 17 , 06:01:37 India
bhrmos.jpg

सीमा पर दुश्मनों को भेदने के लिए भारत ने पूरी तैयारी कर ली है। इसके लिए जल्द ही दुश्मन की सीमा में घुसकर लक्ष्य भेदने में सक्षम ब्रह्मोस मिसाइल का सुखोई-30 एककेआई फाइटर जेट से परीक्षण किया जाएगा। इसका प्रयोग सीमा में मौजूद आतंकी ठिकानों पर हमला बोलने के लिए और उन्हें खत्म करने के लिए किया जाएगा।

ऐसे में खुखोई जेट से इस मिसाइल के मिलाप को रक्षा विशेषज्ञ ‘एक घातक संयोजन’ बता रहे हैं।

यह मिसाइल जमीन के अंदर बने परमाणु बंकरो, कमांड एंड कंट्रोल सेंटर्स और समुद्र के ऊपर उड़ रहे विमानों को दूर से ही निशाना बनाने में सक्षम है। दागने के बाद ब्रह्मोस की स्पीड साउंड की स्पीड से तीन गुना तेज होती है, फिलहाल इसकी मारक क्षमता 290 किलोमीटर दूर तक की है जिसको 450 किलोमीटर तक करने का काम भी चल रहा है।

सुखोई से फायर करने के लिए मिसाइल के डिजाइन में कुछ बदलाव भी किये जा रहे हैं। अगर सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण सफल रहा तो इससे भारतीय वायुसेना की ताकत और अधिक बढ़ जाएगी।

अंग्रेजी अखबार के मुताबिक रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से बताया कि इस हफ्ते बंगाल की खाड़ी में दो इंजन वाले सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस मिसाइल के हल्के वर्जन (2.4 टन) का परीक्षण किया जाएगा। 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like