Headline



कमलाबाई और शिव बाबू के बीच सब कुछ ठीक नही

Medhaj News 8 Nov 19 , 06:01:39 India
bjp_shiv_sena.png

बाला साहेब ठाकरे (Bala saheb thackarey) ने शिव सेना का निर्माण किया । उनके साथ उनके भतीजे राज ठाकरे भी थे। उस समय भारतीय जनता पार्टी की स्थिति ठीक नही थी, कांग्रेस और शरद पावर की पार्टी का ही वजूद था। कमलाबाई (भारतीय जनता पार्टी को बाला साहब ठाकरे इसी नाम से बुलाते थे) BJP अपने वजूद के लिए शिव बाबू ( शिव सेना को जिन्हें कुछ नेता कहते थे) Shiv sena पर निर्भर थी। , बाला साहब कभी किसी के दरवाजे नही गये अपनी शर्तों पर और अपने मातोश्री पर ही बात करते थे। कमला बाई और शिव बाबू का रिश्ता 1990 से शुरू हुआ, प्यार परवान चढ़ा और 1995 में सत्ता हासिल हुई। उस समय कमल का जोर कम था और शिव सेना का जोर ज्यादा था , शिव सेना अपने को बड़ा भाई कहती थी।





राज ठाकरे (Raj Thackarey) के हटने से और अलग होने से भारतीय जनता पार्टी को फायदा हुआ और देखते देखते शिव सेना, भारतीय जनता पार्टी से छोटी होती गयी। यंही से दोनो के बीच सत्ता ने खलल डाला और मौका परस्ती शुरू हो गई और हालात यहाँ तक आ गए की चुनाव से पहले हुये समझौते भी बेमानी लगने लगें। अब भारतीय जनता पार्टी अपने आप को बड़ा और शिव सेना को छोटा मानने लगी, वही शिव सेना सत्ता के लिए मोलभाव पर उतर आई। अब कुछ ही घण्टे बचे है अगर दोनों साथ नही मिले और अपना लालच नही छोड़ा तो तलाक तय है, जिसके गंभीर परिणाम हो सकते है। राज्य को फिर से चुनाव का सामना करना पड़ सकता है।



 


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends