जवान की शिकायत पर केंद्र सरकार गंभीर! सीमा से लगे पोस्टों पर डायटीशियन टीम भेजने का लिया फैसला!

मेधज न्यूज़  |  India  |  12 Jan 17,11:01:05  |  
bsf.jpg

बीएसएफ जवान तेजबहादुर यादव के खाने का मुद्दा उठाने के बाद केंद्र सरकार भी गंभीर है। ऐसे में सरकार ने सीमा से लगे पोस्टों पर डायटिशियन टीम भेजने का फैसला लिया है। इस बात की जानकारी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने दी। गुरुवार को जवान तेजबहादुर के आरोपों पर डीआईजी लेवल की एक जांच रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंपी जा सकती है।

बीएसएफ ने शुरुआती जांच रिपोर्ट में कहा है कि, वीडियो में दिख रही दाल डिब्बाबंद दाल थी। इसके अलावा जो परांठा था, वह मेस में बनाया गया था। शुरुआती जांच में यह भी कहा गया है कि, ज्यादा उंचाई वाले इलाके में यही प्रोटोकॉल फॉलो किया जाता है। इसके साथ ही बीएसएफ ने खाने की क्वॉलिटी बनाए रखने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। हालांकि, जांच में सेना ने माना कि, भोजन बनाने और उसकी स्वच्छ ढंग से आपूर्ति तथा स्थापित नियमों के अनुसार निर्धारित गुणवत्ता को लेकर कुछ कमियां पाई गई हैं।

इसे भी पढ़े - दूसरी स्कॉर्पीन क्लास पनडुब्बी ‘खंडेरी’ हुई लॉन्च, अब बढ़ेगी भारतीय नौसेना की ताकत

सेना के बयान में कहा गया है कि, जवानों के भोजन संबंधित मुद्दे, रसद खरीद प्रक्रिया से जुड़े मुद्दे तथा बाद में उनका दुरुपयोग किसी भी संगठन के लिए चिंता का विषय होते हैं। बयान में कहा गया है कि, बीएसएफ ने इस मामले में तमाम बिंदुओं की जांच करने के बाद उचित कार्रवाई का निर्देश दिया है।

इसे भी पढ़े - सहारा-बिड़ला डायरी मामले में पीएम मोदी को मिली राहत! सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

बता दें, खाने की शिकायत करने वाले तेजबहादुर को एलओसी से ट्रांसफर कर प्लंबर का काम दे दिया गया है। इस बात पर उनके परिवार से भी सवाल उठाए हैं। परिवार के लोगों का कहना है कि, अगर उन्होंने खराब खाने की शिकायत की तो उन्होंने क्या गलत कर दिया।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...