कैराना उपचुनाव में कंवर हसन ने थामा आरजेडी का दामन, BJP कि मुश्किलें बढ़ी

Medhaj news 24 May 18 , 06:01:38 India
kairana_bypoll_new.jpg

उपचुनाव: उत्तर प्रदेश के कैराना में होने वाले उपचुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हैं।  बीजेपी के बड़े नेता गढ़ को कब्जाने के लिए जहां जनसभाएं कर रहे हैं, वहीं विपक्षी इस जुगत में लगे हैं कि किस तरह से बीजेपी को चुनावी मैदान में पटखनी जाए। इसी कड़ी में राष्ट्रीय लोकदल पार्टी ने बीजेपी की मुश्किलों को बढ़ा दिया है। जानकारी के मुताबिक, गुरुवार (24 मई) को तबस्सुम को निर्दलीय प्रत्याशी कंवर हसन का समर्थन मिल गया। कंवर हसन तबस्सुम हसन के देवर हैं और चुनाव में उनके खड़े होने से गठबंधन को वोट कटने का डर सता रहा था।
बताया जाता है कि कंवर हसन राष्ट्रीय लोकदल पार्टी के टिकट बंटवारे से नाराज थे। टिकट बंटवारे के बाद ही उन्होंने चुनावी दंगल में निर्दलीय लड़ने का फैसला लिया। दरअसल कंवर हसन ने लोकदल पार्टी से कैराना लोकसभा सीट से दावेदारी की थी, जिससे विपक्ष पार्टियों के खेमे में हलचल मची हुई थी। इसके बाद ही आरएलडी ने कंवर हसन की भाभी तबस्सुम हसन को टिकट देना का फैसला किया। आज आरएलडी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी की पहल पर कंवर हसन ने गठबंधन प्रत्याशी यानी अपनी भाभी तबस्सुम हसन को समर्थन दे दिया। कंवर हसन के समर्थन के बाद बीजेपी प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं क्योंकि जिन वोटों का बंटवारा भाभी और देवर को लेकर हो रहा था। कंवर के पिता यहां से चेयरमैन भी हैं। यहां पर कंवर को 20 से 30 हजार के आसपास वोट मिलने की उम्मीद थी। अब इसका सीधा-सीधा फायदा आरएलडी प्रत्याशी तबस्सुम हसन को होगा।
जयंत ने की पहल
जानकारी की मुताबिक, टिकट बंटवारे के बाद खट्टे संबंधों में मिठास घोलने के लिए जयंत चौधरी ने एक मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग कंवर हसन सहित सैकड़ो की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे। इस ऐलान के बाद कंवर हसन अब अपनी भाभी और आरएलडी प्रत्याशी के लिए जनता से वोट मांगेंगे।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends