दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों पर बोला हमला, 6 जवान शहीद

Medhaj news 21 May 18 , 06:01:38 India
Maoists_kill.jpg

एक बार फिर नक्सलियों ने छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में बड़ी घटना को अंजाम दिया है। नक्सलियों ने जवानों के वाहन को आइइडी ब्लास्ट से उड़ा दिया। विकास विरोधी नक्सलियों ने यह एक बेहद कायराना करतूत किया है। जिसमें हमारे पांच जवान मौके पर ही शहीद हो गए वहीं एक जवान ने अस्पताल में प्राथमिक उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। दूसरे घायल जवान को रायपुर रेफर किया गया है।
विकास विरोधी है नक्सली ज्ञात हो कि नक्सली कई सालों से विकास का विरोध करते आ रहे है। लेकिन इस बार नक्सलियों ने विकास यात्रा को ही निशाना बनाया है। जहां नक्सलियों ने विकास को अपना सबसे बड़ा दुश्मन बताते आ रहे है। नक्सली सभाओं में भी लोगों को विकास का साथ न देने सरकार के विकास में साथ न देने की हिदायत दी जाती रही है।
ये है बड़ा सवाल
मालूम हो कि सीएम की विकास यात्रा इसी जिले से शुरू हुई थी। जहां केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह व छत्तीसगढ़ के मुखिया रमन सिंह ने विकास यात्रा को हरी झण्डी दिखाकर पूरे राज्य भर में विकास यात्रा कर रहे है। लेकिन दो दिन बाद वह फिर से दंतेवाड़ा जिले के बचेली में विकास यात्रा के तहत आमसभा करेगें। लेकिन सभा के मात्र 48 घंटे पहले नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम देकर अपनी उपस्थिीति दर्ज करा दी है जहां सीएम का कार्यक्रम होना है। वहीं इस घटना को अंजाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि, इस घटना में 4 जिलाबल एवं 3 सीएएफ के जवान जो घटना के शिकार हुए है। कार्यक्रम स्थल से मात्र 10 किलोमीटर की दूरी पर दिया अंजाम मिली जानकारी के मुताबिक मात्र 48 घंटे पहले हुए इस वारदात को नकारा नहीं जा सकता क्योंकि इस घटना के दो दिन बाद ही घटनास्थल चोलनार से 10 किमी दूर जहां सीएम का कार्यक्रम होना है वहां नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम देकर अपनी उपस्थिती दर्ज कराई है।
इस घटना को लेकर इलाके में दहशत
इस घटना से पूरा जिला या ये कहें पूरा राज्य हिला हुआ है। जहां सीएम के विकास यात्रा की शुरूआत हुई थी। उसी जिले में दूसरे विकास यात्रा की रथ को नक्सलियों ने रोकने की कोशिश की है। इस वारदात से ज्ञात होता है कि, नक्सली किस कदर विकास के विरोध में खड़े है। जहां से उन्हें विकास नहीं सिर्फ विनाश ही नजर आता है और वह विनाश पर भरोसा करते है। बड़े दिनों से कर रहे थे रेकी मिले सुत्रों से ज्ञात हुआ है कि, इस वारदात को अंजाम देने के लिए नक्सली कई दिनों से रेकी में लगे हुए थे। जवान जहां आरओपी में जवान हमेशा दो पहिया वाहन या पैदल निकलते है। वहीं इस बार चार पहिया वाहन से निकले थे। जिससे इस वारदात को अंजाम देना और आसान हो गया। 50 किलो के इस आइइडी ब्लास्ट में सड़क पर 7 फिट का गड्ढा हो गया है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends