फीस ना जमा करने पर स्कूल प्रशासन ने बच्चियों के साथ की ऐसी हरकत, बच्चो का हुआ बुरा हाल

Medhaj news 11 Jul 18 , 06:01:38 India
BV_Acharya_45.jpg

हौजकाजी इलाके में स्कूल की फीस जमा न कराने पर स्कूल में 59 मासूम बच्चियों को उमस भरी गर्मी के बीच एक कमरे में बंद कर दिया गया। दोपहर के समय अभिभावक जब बच्चियों को लेने स्कूल पहुंचे तो इसका पता चला। बच्चियों का गर्मियों में भूख-प्यास से बुरा हाल था। अपने बच्चों की हालत देखकर परिजन बिफर गए। स्कूल के बाहर जमकर हंगामा किया गया। मामले की सूचना मिलते ही जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मासूमों को जबरन बंधक बनाने और जेजे एक्ट की धारा 75 के तहत मुकद्दमा दर्ज कर लिया। फिलहाल हौजकाजी थाना पुलिस छानबीन कर रही है। बल्लीमारान स्थित गली कासिम जान में राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल है। यहां नर्सरी से 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई होती है।

यह है पूरा मामला
आरोप है कि सोमवार सुबह जब स्कूल खुला तो सुबह 6:45 बजे नर्सरी और केजी कक्षा की छात्राओं के पेरेंट्स अपने-अपने बच्चों को यहां छोड़ गए। दोपहर करीब 12:30 बजे वह अपने-अपने बच्चों को लेने पहुंचे तो पता चला कि 59 बच्चियां अपनी क्लास में नहीं थीं। कर्मचारियों से पूछा गया तो पता चला कि फीस न चुकाने पर स्कूल की एचएम (हेड मास्टर) फरह दीबा खान के कहने पर इन बच्चियों को स्कूल के बेसमेंट में रखा गया है। परिजन वहां पहुंचे तो देखा कि बच्चियों को एक तहखाने नुमा कमरे में जमीन पर बिठाया हुआ था। परिजनों का आरोप था कि वहां पंखा भी नहीं थे। साथ ही चार और पांच साल की सभी बच्चियों की भूख व प्यास से बुरी हालत थी। अपने परिजनों को देखकर बच्चियों ने रोना शुरू कर दिया। गुस्साए परिजनों ने जब एचएम से बातचीत करने का प्रयास किया तो उन्होंने बदतमीजी दिखाते हुए परिजनों को बाहर फिकवाने की बात की। जिले के एडिशनल डीसीपी आल्टो अलफांसो ने बताया कि पेरेंट्स की शिकायत पर जेजे एक्त के तहत मुकद्दमा दर्ज कर लिया गया है। साथ ही इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि बच्चों को कमरे में बंद करने के लिए किसने निर्देश दिया था।
स्कूल ने कहा, एक्टिविटी रूम में बिठाया
दूसरी तरफ प्रकरण में स्कूल प्रशासन ने कहा है कि स्कूल में एक एक्टिविटी रूम है जहां कुछ देर बच्चों को बैठने के लिए कहा गया था। इसके अलावा किसी भी बात पर उन्होंने टिप्पणी करने से इंकार किया है और कहा है कि उन्होंने अपना पक्ष पुलिस को दे दिया है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends