कैलेंडर के जरिए पाकिस्तान का भारत को प्यार!

मेधज न्यूज  |  India  |  12 Jan 17,15:02:24  |  
2017.jpg

भारत के सैनिक सरहद पर आतंकवादियों के द्वारा शहीद हो रहें है। ऐसे में पाकिस्तान के साथ प्रेम की बातें बेतुकी सी लगती है। लेकिन इस स्थिति में भी दोनों मुल्कों में ऐसे कुछ लोग है, जिन्होनें दोस्ती की आस अभी भी नहीं छोड़ी है। ऐसी ही एक नई कोशिश कैलेंडर के जरिए सामने आई है। जी हां, इस 12 पन्नों के कैलेंडर में दोनों मुल्कों के छात्रों ने दोस्ती का रंग भरा है।

आपकों बता दें, पाकिस्तान में गर्मजोशी के साथ यह कैलेंडर जारी हो चुका है। भारत में यह 14 जनवरी को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में जारी किया जाएगा। इसके बाद इसे चंडीगढ़ के साथ ही किर्गिस्तान व अमेरिका में भी जारी करने की योजना है। इस कैलेंड़र पर दक्षिणी पश्चिमी दिल्ली के नारायणा स्थित ज्ञान मंदिर पब्लिक स्कूल की छात्रा तान्वी की भी पेंटिंग शामिल है।

कैलेंडर में दोनों मुल्कों के बच्चों की बनाई छह-छह पेंटिंग शामिल हैं। जिनमें कबूतर, तितली और सरहद पर खेलते बच्चों जैसी अन्य मासूम व पाक कल्पनाओं को आकार दिया गया है। ये पेंटिंग कक्षा आठ से 12 वीं तक के विद्यार्थियों ने बनाई हैं।

इसे भी पढ़ें- अमेजन कनाडा ने भारतीय तिरंगे का बनाया डोरमेट, सुषमा ने अपनाया सख्त रूख

आयोजन के बारे में आगाज-ए-दोस्ती मुहिम के सदस्य रवि नितेश ने बताया कि राजनीति से अलग, दोनों मुल्कों में कई दिल ऐसे हैं जो आपसी रिश्तों को अच्छा बनाना चाहते हैं। बात जब-जब बिगड़ी, आम अवाम ने सामने आकर उम्मीदों को जिंदा रखने का काम किया है और वे हर बार जीतीं हैं। दोस्ती की ख्वाहिश रखने वालों में वे छात्र भी हैं, जिन्हें दोनों मुल्कों की तरक्की की कहानी लिखनी है। इस मुहिम में दोनों मुल्कों के सैकड़ों बच्चों ने हिस्सा लिया। इनमें से छह-छह पेंटिंग का चयन किया गया।

इसे भी पढ़ें- चार भारतवंशियों को अमेरिका देगा, राष्ट्रपति सम्मान...

भारत पाकिस्तान की सांझा उम्मीदों के नाम का यह कैलेंडर लाहौर और करांची में जारी हो चुका है। आगाज ए दोस्ती मुहिम में दोनों मुल्कों के प्रतिष्ठित साहित्यकार, कवि, मानवाधिकार व सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हैं।

रवि ने बताया कि उक्त लोग पिछले पांच सालों से दोनों मुल्कों के लोगों को आपस में जोड़ने की मुहिम में लगे हुए हैं। इस मुहिम में क्लास रूम में वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये भारतीय बच्चों को पाकिस्तान के बच्चों में आपसी संवाद स्थापित कराना भी शामिल है।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...