कुंभ में किन्नर अखाड़े ने पहली बार किया शाही स्नान

Medhajnews 16 Jan 19,16:41:01 Kumbh
nkljkjuihjug8ui;ui16.jpg

श्री रामचरितमानस में तुलसीदास जी लिखते हैं, माघ मकरगत रवि जब होई, तीरथपतिहिं आव सब कोई, देव दनुज किन्नर नर श्रेनी, सादर मज्जहिं सकल त्रिवेनी.. प्रयागराज में त्रिवेनी संगम के तट पर इन्हीं चौपाइयों को लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने मूर्त रूप लेते हुए देखा | पहली बार कुंभ मेला में इस प्रकार के ऐतिहासिक घटना के साक्षी बने | जूना अखाड़ा में विलय के बाद पहली बार जूना अखाड़ा के शाही स्नान में शामिल होने पहुंचे शाही स्नान के लिए निकले जूना अखाड़ा के संतों के साथ किन्नर अखाड़ा के संतों की छवि अपनी अलग ही छटा बिखेर रही थी |





घाट पर संतों का दर्शन करने के लिए बेचैन श्रद्धालुओं का कौतूहल घाट पर पहुंचे जूना अखाड़ा के संतों के साथ किन्नर अखाड़ा के संतों को देखकर दो गुना हो गया | जहां पर जूना अखाड़ा के मुख्य संरक्षक श्रीमहंत हरि गिरी जी महाराज ने किन्नर अखाड़ा के संतों का स्वागत किया | इसके बाद उन्होंने किन्नर अखाड़ा प्रमुख अचार्या महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी व अन्य महामंडलेश्वर को छत्र व चंवर देकर उनका स्वागत किया |


    Comments

    • Medhaj News
      Updated - 2019-01-16 12:25:26
      Commented by :Mahant

      Thanks for publishing such inclusive news. Medhajnews chooses very great stories for publishing.


    • Load More

    Leave a comment


    Similar Post You May Like