नवरात्रि के पहले दिन ऐसे करें कलश स्थापना, ये है शुभ मुहूर्त

Medhaj news 9 Oct 18,16:08:58 Lifestyle
navratri.jpg

शारदीय नवरात्र की शुरुआत बुधवार को होगी। ज्योतिषियों का मानना है कि देवी आगमन नौका पर हो रहा है जो बहुत ही कल्याणकारी है।पहले दिन कलश स्थापना कर लोग नौ दिन तक देवी के व्रत का संकल्प लेंगे | इस बार नवरात्रि 2018 10 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं जहां पहले दिन मां दुर्गा के नौ रूपों के में से शैली पुत्री देवी की पूजा की जाती है | यह दिन सभी नौ दिनों में से सबसे खास होता है | इस दिन घटस्थापना की जाती है जिसे विशेष शुभ मुहूर्त के अनुसार स्थापित किया जाता है |

बुधवार को नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11:36 बजे से दोपहर 12:24 बजे तक है। लेकिन दोपहर 12 बजे के बाद राहू काल लगने से 12 बजे तक ही कलश स्थापना करने का अभिजित मुहूर्त माना जा रहा है। सुबह 11:36 से दोहपर 12 बजे तक ही कलश स्थापना का सबसे अच्छा समय है।

मुहूर्त की समयावधि- एक घंटा दो मिनट
ब्रह्म मुहूर्त- प्रात: 4.39 से 7.25 बजे तक का समय भी श्रेष्ठ है।7.26 बजे से द्वितीया तिथि का प्रारम्भ हो जाएगा।

एक और मुहूर्त
यदि किन्हीं कारणों से प्रतिपदा के दिन सवेरे 6.22 से 7.25 मिनट तक घट स्थापना नहीं कर पाते हैं तो अभिजीत मुहूर्त में 11.36 से 12.24 बजे तक घट स्थापना कर सकते हैं। लेकिन यह घट स्थापना द्वितीया में ही मानी जाएगी।

प्रतिपदा तिथि का आरंभ :
9 अक्टूबर 2018, मंगलवार 09:16 बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त : 10 अक्टूबर 2018, बुधवार 07:25 बजे



नवरात्र की तिथियां -
प्रतिपदा / द्वितीया - 10 अक्तूबर - माँ शैलपुत्री माँ ब्रह्मचारिणी
तृतीया - 11 अक्तूबर - माँ चन्द्रघण्टा
चतुर्थी - 12 अक्तूबर - माँ कुष्मांडा
पंचमी - 13 अक्टूबर - माँ स्कंदमाता
पंचमी - 14 अक्तूबर - माँ स्कंदमाता
षष्टी - 15 अक्तूबर - माँ कात्यायनी
सप्तमी - 16 अक्तूबर - माँ कालरात्रि
अष्टमी - 17 अक्तूबर - माँ महागौरी (दुर्गा अष्टमी)
नवमी - 18 अक्तूबर - माँ सिद्धिदात्री (महानवमी)
दशमी- 19 अक्तूबर- विजय दशमी (दशहरा)


 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends