आखिर 1 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है ‘नया साल’... जानें, दिलचस्प इतिहास!

मेधज न्यूज  |  Lifestyle  |  29 Dec 16,10:20:49  |  
happy_new_year.jpg

नए साल का आगमन बस अब कुछ दिन में होने वाला है। सब इस दिन को मानने की तैयारी में जुट गए हैं। कोई पार्टी करने की तैयारी में हैं, तो कोई इस दिन घूमने की तैयारी में है। हर साल यह दिन आता है और हम सब बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ यह दिन मनाते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है... यह दिन आखिर 1 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है? 1 फरवरी को क्यों नहीं 1 मार्च को क्यों नहीं?

इसे भी पढ़ें- #ClockBack2016: बायोपिक के नाम रहा साल 2016, इन बायोपिक ने किया बॉलीवुड पर राज!

शायद ही आपने यह बात सोची हो... लेकिन इस सवाल के जवाब के पीछे भी इतिहास है।

आइए जानते हैं... क्यो?

1 जनवरी को मनाए जाने वाले नए साल की शुरुआत 15 अक्टूबर 1582 से की गई। 1 जनवरी से शुरु होने वाले कैलेंडर का नाम ग्रिगोरियन कैलेंडर है। ग्रिगोनियन कैलेंडर की शुरुआत ईसाईयों के सबसे खास त्योहार ईस्टर यानी कि क्रिसमस डे के आयोजन की तिथि को निश्चित करने के लिए की गई। उस

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...