आपकी राशि बताएगी आपका पॉवर चक्र, जानिए कैसे…

Medhaj News 11 Nov 17,20:55:11 Lifestyle
Chakr.jpg

अभी तक आप राशि से व्यक्ति के स्वभाव और व्यवहार के बारे में जान सकते थे, आपका दिन और आज क्या होगा यह जान सकते थे लेकिन अब राशि से शारीरिक क्षमताओं के बारे में भी पता लगा सकते है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, चक्र शारीरिक शक्‍ति, बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य, शक्‍ति और जीवनशक्‍ति को रेखांकित करता है। ये चक्र मनुष्‍य की मानसिकता, मन और आत्मा को सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करने में सहायता करते हैं।

चक्र एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ ऊर्जा का चक्र होता है। इन चक्रों के बारे में जानना जरूरी है।

आइए जानते है कि आपकी राशि के अनुसार आपका चक्र क्या है-

कन्या

इस राशि का पांचवा चक्र है जिसे थ्रोट चक्र भी कहा जाता है। गले के सही होने पर इस राशि के लोग बेहतर महसूस करते हैं। ये उचित तथ्‍यों को सामने लाते हैं और पब्‍लिक स्‍पीकिंग में काम करते हैं।

मिथुन

मिथनु राशि का पांचवा चक्र है और इसका स्‍वामी बुध है इसलिए ये ऊर्जा का प्रमुख स्रोत माने जाते हैं। इनमें भरपूर आत्‍मविश्‍वास होता है और ये अपने विचारों और योजनाओं से कई लोगों को प्रभावित करते हैं।

कर्क

कर्क राशि का छठा चक्र होता है और ये चक्र मनुष्‍य की आत्‍मा का तीसरा नेत्र चक्र माना जाता है। चंद्रमा के प्रभाव में होने के कारण ये बिना झुके अपने कार्य को पूरा करने में सफल हो पाते हैं

सिंह

इस राशि का सातवां चक्र है जिसे क्राउन चक्र के नाम से भी जाना जाता है। इस वक्र पर सूर्य का प्रभाव होता है। इनके माथे के ऊपर वाली जगह इनके शरीर का सबसे शक्‍तिशाली चक्र माना जाता है। इसकी सहायता से ये बड़ी आसानी से समस्‍याओं को समझ और उनका हल निकाल पाते हैं।

मेष और वृश्चिक

इस राशि का तीसरा चक्र सोलर प्लेक्सस चक्र होता है, जो शक्ति का मुख्य केंद्र होता है। ये चक्र नाभि के ऊपर होता है और ये पूर्वानुमान से जुड़े होते है।

धनु और मीन

इन राशि का चक्र दूसरा होता है,इसे सैक्रल चक्र के नाम से भी जानते है। ये नाभि के ठीक ऊपर स्थित होता है और इस पर गुरु की कृपा रहती है। इस राशि के लोग आशावादी रहते हैं। यौन उत्तेजना और गर्भावस्था के रूप में भी इस चक्र को देखा जा सकता है।

कुंभ और मकर

इन राशि का पहला चक्र होता है। यह ग्रह सबसे अधिक साफ दिखाई देता है। पहले चक्र को रूट चक्र भी कहते हैं। ये परिस्थिति को बेहतर तरीके से समझ पाते हैं जिस वजह से इन्‍हें व्‍यक्‍तिगत लाभ होता है।

तुला और वृषभ

इन राशि का चौथा चक्र है। इसे हृदय चक्र के नाम से भी जाना जाता है। यह अत्यंत प्रभावशाली होता है और इस चक्र वाले लोग अपने साथी की सहानुभूति रखते हैं और प्रेम के मामले में गहरे संबंध बनाते हैं। इन्‍हें आर्थिक लाभ भी होता है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like