सलमान-आमिर के साथ इमरान भी चीन पहुंचे, भारत में करेंगे ब्लैकमेल

Medhaj news 5 Apr 18,16:54:20 Movies Review
852_bla_ma_728x288.jpg

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से हिंदी फिल्मों को चीन में रिलीज किया जा रहा है। सभी फिल्मों ने काफी अच्छा बिजनेस किया है। इसी को देखते हुए चीन में बॉलीवुड फिल्मों का रिलीज होने का सिलसिला भी तेज हो गया है। ट्रेड एनालिस्ट रमेश बाला ने इस बारे में टि्वटर पर एक पोस्ट शेयर किया है। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा है, 'किंगमिंग फेस्टिवल की छुट्टी के दिन चीन में 'हिंदी मीडियम' रिलीज हो रही है। एडवांस बुकिंग सॉलिड है और पहले ही दिन के लिए प्री सेल्स के आंकड़े 350 हजार डॉलर तक पहुंच चुके हैं।' उन्होंने बताया,चीन में हिंदी मीडियम को रिव्यू रेटिंग भी शानदार मिली है जिससे इसके अच्छे कारोबार की उम्मीद की जा रही है। बता दें कि इससे पहले आमिर खान की फिल्म 'दंगल', 'सीक्रेट सुपरस्टार' और सलमान खान की फिल्म 'बजरंगी भाईजान' धमाकेदार बिजनेस कर चुकी हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि बॉलीवुड के एक और खान की फिल्म 'हिंदी मीडियम' चीनी बॉक्स ऑफिस पर क्या तहलका मचाती है।  



ब्‍लैकमेल रिव्यू:

 म‍िड‍िल क्‍लास आदमी अपनी ही परिस्थितियों का शिकार है। वह इस तरह अधीनता वाला जीवन जीता है क‍ि जब मतभेद की स्‍थ‍िति बनती है तो वह अपराध करने के लिए संघर्ष करता है। वह अपने भाग्य को छोड़ देता है। ब्‍लैकमेल का कॉन्‍सेप्‍ट यही है और इसी उथल-पुथल से फ‍िल्‍म में अच्‍छा ट्व‍िस्‍ट आता है। इसमें आम आदमी की रोजाना की मुश्‍क‍िलें हैं जैसे ईएमआई, लोन और असफल र‍िलेशनश‍िप्‍स।

जब देव को अपनी पत्‍नी के बारे में पता चलता है तो वह उसके लवर रंजीत (अरुणोदय स‍िंह) को ब्‍लैकमेल करता है जो बाद देव की पत्‍नी को ब्‍लैकमेल करने लगता है। ड्रामा तब और बढ़ता है जब देव की ज‍िंदगी के बाकी कैरक्‍टर्स को उसके ब्‍लैकमेल‍िंग के प्लान्‍स के बारे में पता चलता है। इसके बाद सभी क‍िसी न क‍िसी को क‍िसी मकसद के ल‍िए ब्‍लैकमेल करने लगते हैं। यहां से जो स‍िचुएशनल ह्यूमर पैदा होता है, वह काफी मजेदार होता है। परवेज शेख (क्‍वीन और बजरंगी भाईजान के राइटर) ने बढ़िया ल‍िखी है और दृश्यों में कॉम‍िडी को कुशलतापूर्वक पेश क‍िया गया है।

अभ‍िनव देव का डायरेक्‍शन पैसा वसूल है। अपनी ब्‍लैक कॉम‍िडी 'डेल्ही बैली' के बाद उन्‍होंने एक बार फ‍िर ज‍िस जॉनर में हाथ आजमाया है, उसमें वह काफी हद तक सफल रहे हैं। फ‍िल्‍म का टॉइलट ह्यूमर आपको 'डेल्ही बैली' की याद द‍िलाएगा। फ‍िल्‍म में द‍िया गया अमित त्र‍िवेदी का संगीत सही सीन्‍स पर फ‍िट बैठता है। फ‍िल्‍म में ओमी वैद्य अपनी मजेदार अमेर‍िकी भाषा में देव को प्रोत्‍साह‍ित करते हुए कहते रहते हैं, 'शेक इट अप'। इसके अलावा फ‍िल्‍म का गाना सटासट अच्‍छा बन पड़ा है! कुल म‍िलाकर ब्‍लैकमेल का ह्यूमर और इसका प्रेजेंटेशन बेहतरीन है। ऐक्‍ट‍िंग की बात करें तो इरफान, जो न ही अपने बॉस और न ही अपनी विश्वासघाती पत्नी के साथ खड़े होते हैं, ने एक औसत ऑफ‍िस के आदमी के रूप में सॉल‍िड परफॉर्मेंस दी है। उन्‍होंने अपने कैरक्‍टर में लाचारी लाई है और जब वह ब्‍लैकमेल करने के ल‍िए प्‍लान‍िंग करते हैं तो भी बेहद आसानी से उसे न‍िभा जाते हैं। उनके ऐक्‍शंस में अनिश्चितता है जो उनकी अच्‍छाई से आती है और इसी से हंसी आती है। बैड बॉय के रूप में अरुणोदय सिंह काफी गुस्‍सैल हैं। यह उनके कर‍ियर का अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन है। रंजीत की पत्‍नी के रूप में द‍िव्‍या दत्‍ता मनोरंजन करती हैं। अरुणोदय के साथ उनके सीन्‍स आकर्षक हैं। कीर्ति कुल्हारी ने भी अपना क‍िरदार अच्‍छे से न‍िभाया है।

ब्लैकमेल का प्‍लॉट इसका हीरो है और यह डार्क और फनी के बीच के बैलेंस को अच्‍छे तरीके से मैनेज करता है। फ‍िल्‍म कहीं भी इसके ब्‍लैक ह्यूमर को नहीं छोड़ती है। लंबे समय बाद ऐसी मजेदार फिल्म आई है।


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like