2 साल में बिजली बिल पर रेलवे ने बचाये 5 हजार करोड़ रूपए: रेल मंत्रालय

Medhaj News 24 Nov 17 , 06:01:37 Power and Infrastructure
railway_2.jpg

IR (INDIAN RAILWAY) Business is Usual mode ओपन एक्सेस व्यवस्था के तहत सीधे बिजली खरीद कर अप्रैल 2015 से अक्टूबर 2017 तक 5,636 करोड़ रुपये की बचत प्राप्त करने में सफल रहा है। इस बचत से संभावना जताई जा रही है कि भारतीय रेल आने वाले 10 सालों के भीतर 41,000 करोड़ रूपए की बचत कर सकता है।

रेल मंत्रालय ने कहा, “चालू वित्त वर्ष के अंत तक इस संचयी आंकड़े के 6,927 करोड़ रुपये तक पहुंचने की संभावना है, जो कि अतिरिक्त 1000 करोड़ रुपए का इजाफा है और तय लक्ष्य से ज्यादा है।”

विद्युत अधिनियम, 2003 के तहत ओपन एक्सेस पॉलिसी, उपभोक्ताओं को अनुमति देती है कि वो सीधे बाजार से आपूर्ति के लिए 1 मेगावाट बिजली खरीद सकते हैं।

7 राज्य कर रहे है ओपन एसेस रूट के माध्यम से बिजली आपूर्ति-

रेलवे वर्तमान में सात राज्यों में ओपन एसेस रुट के माध्यम से बिजली की आपूर्ति कर रहा है, जिनमें महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, झारखंड, राजस्थान, हरियाणा और कर्नाटक एवं दामोदर वैली का कारपोरेशन एरिया भी शामिल है।

5 राज्यों में शुरू होने वाली ओपन एक्सेस पॉलिसी-

रेल मंत्रालय ने कहा है कि इस पॉलिसी के तहत पांच और राज्यों (बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और तेलंगाना) ने भी ओपन एक्सेस रूट के जरिए बिजली आपूर्ति के लिए सहमति जताई है। जिसकी अगले साल से शुरू होने की संभावना है।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like