स्विट्जरलैंड में भारतीय मूल के पहले सांसद बने निकलौस-सैमुअल गगर

medhaj news 19 Jan 18 , 06:01:38 Power and Infrastructure
united_nation.jpg

कर्नाटक के उडुपी में 1 मई 1970 को सीएसआई लॉम्बार्ड मेमोरियल हॉस्पिटल में जन्मे निकलॉस को उनकी मां अनुसूया ने पैदा होने के साथ ही त्याग दिया था|48 वर्षीय निकलॉस भारतीय मूल के पहले स्विस सांसद हैं|  इसके साथ भी वो स्विस संसद के सबसे युवा सदस्यों में से भी एक हैं|कर्नाटक के उडुपी में 1 मई 1970 को सीएसआई लॉम्बार्ड मेमोरियल हॉस्पिटल में जन्मे निकलॉस को उनकी मां अनुसूया ने पैदा होने के साथ ही त्याग दिया था| मां के त्यागने के एक सप्ताह के भीतर ही उन्हें एक स्विस दंपति ने गोद ले लिया था| उनके नए माता-पिता फ्रित्ज और एलिजाबेथ उन्हें लेकर केरल चले गए,उस समय निकलॉस मात्र 15 दिन के थे|

कर्नाटक से शुरू हुए और स्विस सांसद बनने तक के सफर को बताते हुए निकलॉस ने कहा कि जीवन के शुरुआती 4 साल मैंने केरल के थालेस्सरी में बिताए| यहां मेरी नई मां एलिजाबेथ अंग्रेजी और जर्मनी पढ़ाती थीं और मेरे पिता फ्रित्ज नट्टूर टेक्निकल ट्रेनिंग फाउंडेशन में काम करते थे|बाद में मेरे नए माता-पिता स्विट्जरलैंड चले गए. यहां पर मैंने ट्रक ड्राइवर, माली और मिस्त्री का काम किया, जिससे की मैं अपनी उच्च शिक्षा का खर्च उठा सकूं क्योंकि मेरे माता-पिता ऐसा करने में असमर्थ थे| उन्होंने मुझे कपड़ा और खाना दिया इसके साथ ही अन्य कई चीजें सिखाई|निकलॉस उन 143 लोगों में शामिल हैं जो दुनिया के अलग-अलग 24 देशों में सांसद हैं और भारतीय मूल के हैं| पिछले सप्ताह विदेश मंत्रालय की तरफ से आयोजित भारतीय मूल के सांसदों (पीआईओ) के कार्यक्रम में निकलॉस समेत 143 सांसदों ने हिस्सा लिया था|

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends

    Special Story