छत्तीसगढ़: 10वीं तक पढ़े इस शख्स ने बाइक के पार्ट्स से बना डाली सोलर कार

Medhaj News 6 Nov 17,22:45:52 Science & Technology
solar_car.jpg

जिंदगी में मंजिल पाने के लिए शिक्षा ही नहीं, सपना और दृढ़ इच्छाशक्ति भी मायने रखती है। कुछ ऐसा ही 35 वर्ष के अंजोर ने कर दिखाया है, 10वीं पास अंजोर ने कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद भी बाइक के पुराने पार्ट्स से सोलर कार बनाकर मिसाल कायम की है। जिससे बिलासपुर जिले के मस्तूरी ब्लाक ग्राम भटचौरा निवासी अंजोर शिक्षाजगत से लेकर इंजीनियरिंग और रिसर्च सेंटर में चर्चा का विषय बन गए है। अंजोर ने इस कार को बिना संसाधन और बिना सरकारी मदद के तैयार किया है।

ऐसी है अंजोर की सोलर कार

-     यह कार 60 किमी. प्रति घंटे से चलेगी।

-     कार को बनाने के लिए पुराने बाइक पार्ट्स का इस्तेमाल किया गया है।

-     घर की छत पर लगे सोलर पैनल से बैट्री चार्ज करने के बाद कार में लगाई गई।

-     कार में लगे सोलर पैनल से टीवी, कूलर,फ्रिज का भी उपयोग किया जा सकता है।

-     कार को बनाने में 2 से 3 साल का वक्त लगा।

-     यह कार गांव की सड़कों पर खूब दौड़ लगा रही है।

-     बिना पेट्रोल और डीजल की यह कार पर्यावरण की दृष्टि से भी अनुकूल है।

अंजोर को कार बनाने का आइडिया फिल्म कोई मिल गया से आया क्योंकि इस फिल्म के एलियन को धूप से एनर्जी मिलती थी। अंजीर ने बताया कि जिला प्रशासन से मदद मिल जाती तो काम आसान हो जाता क्योंकि कार का डिजाइन अभी पूरा नही हुआ है, सोलर पैनल के माध्यम से बैटरी चल रही है लेकिन इसमें इनवर्टर आदि की जरूरत है।

ऐसा सोचते है अंजोर

अंजोर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। वह अपने परिवार का जीवन-यापन मजदूरी करके करता है। लेकिन अंजोर की सोच बहुत बड़ी है, वह पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम के रिसर्च पर योगदान और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन 2020 से प्रेरित है। अंजोर का मानना है कि सौर ऊर्जा के प्रति सभी को ध्यान देने की जरूरत है। नैनो टेक्नोलॉजी से विश्व की समस्या का समाधान हो सकता है।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like