Not So Serious! इन दो कैटेगरी के लोगों को जरूर खेलना चाहिए ‘ब्लू व्हेल गेम’

Medhaj News 15 Sep 17,22:02:46 Special Story
Game_news.jpg

रूस से शुरू हुआ खूनी ‘ब्लू व्हेल गेम’ भारत के साथ भारत के पड़ोसी देशों में भी पैर पसार चुका है। भारत के कई मासूम बच्चे इस खेल का शिकास हो चुके हैं। भारत में पहला मामला मुंबई से सामने आया था, जहां मनप्रीत नाम के लड़के ने छत से कूदकर अपना जान दे दी थी। जिसके बाद यह सिलसिला थमने का नाम नहीं लिया... एक के बाद एक जाने इस खेल ने ले ली।

जैसे की सभी जानते हैं, यह गेम आपको आत्महत्या करने पर मजबूर कर देता है। इस खेल से रूस में 130 लोगों की मौत हो गई थी। अब भारत व उसके पड़ोसी देशों में भी इसका प्रभाव देखने को मिल रहा है। वर्तमान समय में दुनियाभर में यह गेम लोकप्रिय हो गया है, शायद ही कोई होगा जो इस गेम के बारे में नहीं जानता होगा।

क्या है ब्लू वेल गेम’?

यह खतरनाक गेम यंग लोगों को सुसाइट करने व उकसाने का ऑनलाइन गेम है। इस गेम का संबंध ब्लू वेल संबंध वेल्स के सुसाइड से है। पानी में रहने वाले स्तनधारी जीव बीच पर चले जाते हैं। वहां उनकी डिहाइड्रेशन अपने खुद के वजन या हाई-टाइड की वजह से मौत हो जाती है।

कैसे खेला जाता है यह गेम?

लगभग 50 दिन तक चलने वाले इस गेम में खेलने वाले लोगों को 50 टास्क दिए जाते हैं, यह 50 टास्ट खुद को हानि पहुंचाने से संबंधित होते हैं जसे अपना हाथ काटना, अजीब परेशान करने वाले गाने सुनना, कब्रिस्तान में समय बिताना, हॉरर फिल्मे देखना और बिल्डिंग से कूद जाना। इन टास्क के जरिए अंत में खिलाड़ी को सुसाइट करने पर विवश कर दिया जाता है।

कब और कहां हुई इस गेम की शुरुआत-

‘ब्लू वेल गेम’ की शुरुआत 2013 में रूस में हुई। ये गेम ‘VKontakte’ नाम की यूरोपियन सोशल साइट के जरिए खेला जाने लगा। रूस की एक यूनिवर्सिटी से बाहर किए गए छात्र फिलिप बुदेकिन ने दावा किया था कि यह गेम उसने बनाया था। उसके मुताबिक उसने ऐसा गेम इसलिए बनाया था क्योंकि वो चाहता था कि समाज फ हो जाए। उसके मुताबिक उन लोगों को खुदकुशी के लिए उकसाकर ऐसा किया जा सकता है जिसके लिए जीवन की कोई वैल्यू नहीं। हालांकि गेम में 16 साल के बच्चे की मौत के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया था उसके बाद उसे 3 साल की सजा सुना दी गई थी।

आज के समय में दो समुदाय के लोगों को यह ‘ब्लू व्हेल गेम’ जरूर खेलना चाहिए।

आतंकी- जी हां, आज के समय में ‘ब्लू व्हेल गेम’ आतंकियों को जरूर खेलना चाहिए। जो लोग एक क्षण में ही सैंकड़ों की संख्या में मासूम लोगों की जान ले लेते हैं, उन्हें इस दुनिया में रहने का कोई अधिकार नहीं होना चाहिए। तो ऐसे में उन्हें इस गेम का एक्पोजर जरूर लेना चाहिए... इससे सेना के हथियार व उनका समय काफी बचेगा!

बलात्कारी- सम्मान के साथ जिंदगी व्यतित करना हर किसी का अधिकार होता है, लेकिन इस सम्मान पर तब चोट पहुंचती है जब कोई दरिंदा आपकी आबरू को छिन लेता है। हमारे देश में कई बलात्कार के केस में फांसी मिलती है, तो कई में कुछ साल की जेल। हालांकि, इस सजा को देने के लिए एक लम्बी कानूनी प्रक्रिया का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर वह बलात्कारी खुद ही इस गेम को खेल कर अंजाम पर पहुंच जाए, तो कानून का भी समय बचेगा और कोर्ट में लंबित पड़े केस की संख्या भी कम होगी।  

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends