जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज की सराहनीय पहल, बालिकाओं की शिक्षा को दे रही बढ़ावा

medhaj news 1 Feb 18,17:08:16 Special Story
jwc.jpg

जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज की प्राध्यापिकाएं अपने वेतन का एक अंश जमा कराती हैं जिससे की वो वेतन से एकत्र हुए पैसे से बालिकाओं को शिक्षा में मदद मिल सके | इस कोष से गरीब छात्राओं को पढ़ाई जारी रखने के लिए लोन दिया जाता है। अब तक 600 से अधिक छात्राएं इस कर रहित ऋण सुविधा का लाभ उठा चुकी हैं और यह सिलसिला अब भी जारी है।इस कोष से दी गई राशी को वापस लेने या विद्यार्थी को वापस लौटने का कोई प्रावधान नहीं है | मुख्य भूमिका निभाने वाली कॉलेज की तत्कालीन प्राचार्य डॉ. शुक्ला मोहंती अब कोल्हान विश्वविद्यालय की कुलपति हैं| कुछ अध्यापिकाएं इसमें अपने इच्छा से ज्यादा दान करती है जिसमे से ज्योति भाटिया इनमें से एक हैं, जो अपने वेतन का एक बड़ा हिस्सा कोष में जमा कराती रही हैं। वह अब सेवानिवृत्त हो चुकी हैं, लेकिन अब भी कोष में अनुदान देती हैं।



छात्रवृत्ति का विवरण :



छात्राओं को अधिकतम पांच हजार रुपये तक की राशि लोन के नाम से दी जाती है। इसे प्राप्त करने का तरीका भी बहुत आसान है। अगर कोई छात्रा इस कोष के जरिए सहायता राशि लेना चाहती है, तो उसे सिर्फ कोष की कोषाध्यक्ष डॉ. काकोली बसाक के पास एक आवेदन करना पड़ता है। उसके बाद कमेटी संबंधित छात्रा से बात कर उसकी पारिवारिक-आर्थिक स्थिति का पता लगाती है और अगर छात्रा द्वारा दिया गया आवेदन सही रहता है तो उसे सहायता राशि दे दी जाती है।


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like