आखिर क्यों हर नोट पर छपती है बापू की ही तस्वीर? यह है राज...

Medhaj News 2 Oct 17,15:15:44 Special Story
bapu_on_note.jpg

आज राष्ट्रपति महात्मा गांधी की 148वीं जयंती है। देश में गांधी जी को बापू को दर्जा दिया गया है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है हमारे देश में नोटों के ऊपर केवल महात्मा गांधी की ही तस्वीर क्यों छापी जाती है। हर नोट चाहे 5 रूपये का नोट हो या फिर 20, 50, 100, 500, और 2000 रूपये का नोट हो।

कभी दिमाग में यह सवाल उठा है, केवल बापू की ही तस्वीर नोटों पर क्यों छपती है उनके अलवा किसी और स्वतंत्रता सेनानी की तस्वीर को नोटों पर क्यों नहीं छापा जाता। अगर नहीं आया, तो आज जान ही लीजिए कि इसके पीछे का राज क्या है!

सबसे पहले अगर आपको लगता है कि हमारे देश की आजादी में महत्वपूर्ण योगदान रहा, इसलिए उन्हें नोट पर छापने का दर्जा मिला है.. तो आप गलत है। अगर ऐसा होता तो हर नोट पर एक अलग स्वतंत्रता सेनानी की तस्वीर होती, क्योंकि आजाद भारत के लिए बहुतों ने अपना खून बहाया है।

कब शुरू हुई बापू की तस्वीर छपना-

साल 1996 में महात्मा गांधी की तस्वीर वाले नोट जारी किये गये थे, इससे पहले गांधी की तस्वीर को वाटरमार्क की तरह नोट पर इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन बाद में 5, 10, 20, 50, 100, 500 और 1000 रूपये के नोट पर अशोक स्तंभ की जगह बापू की तस्वीर लगाई गई। एक RTI में खुलासा हुआ था कि साल 1993 में RBI ने नोट के दाहिनी तरफ महात्मा गांधी की तस्वीर छापने की सिफारिश केंद्र सरकार से की थी।

दरअसल, हमारा देश विभिन्नताओं में एकता वाला देश है और महात्मा गांधी को राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में माना जाता है। वहीं, गांधी जी को राष्ट्रपिता का दर्जा दिया जा चुका है... अगर किसी और स्वतंत्रता सेनानी की तस्वीर को नोट पर छापते तो क्षेत्रीय विवाद हो सकता था। इसलिए राष्ट्रपिता गांधी की तस्वीर को नोट पर छापने का फैसला लिया गया।

नोटों पर दिखने वाली गांधी जी की असली तस्वीर-

नोट पर दिखने वाली तस्वीर साल 1946 में खिंची गई थी और यह असली तस्वीर है। यह फोटो उस समय ली गई थी, वो जब लार्ड फ्रेडरिक पेथिक लॉरेंस विक्ट्री हाउस में आए थे। 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like