भारत ने ही नहीं पाकिस्तान ने भी बहाये थे ‘नीरजा’ की मौत पर आंसू

Medhaj News 5 Sep 17,15:42:17 Special Story
Neerja_bhanot.jpg

सोनम कपूर अभिनित फिल्म ‘नीरजा’ तो आप सभी ने देखी ही होगी, भारत की 22 साल की बेटी ने बिना अपनी जान की परवाह किये अपना फर्ज निभाया और 360 लोगों की जान बचाई। ये आज ही का दिन था 5 सितंबर 1986 जब केवल 22 साल की ‘नीरजा भनोट’ की कराची में आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी और इस बहादुर बेटी की शहादत पर न केवल भारत के बल्कि पाकिस्तान के भी आंसू बहाये थे।

क्या हुआ था 5 सितंबर 1986-

मुंबई से न्यूयॉर्क जा रहे पैन एन फ्लाइट 72 को चार आतंकवादियों ने हाईजैक कर लिया था। इसी फ्लाइट में नीरजा सीनियर एयर होस्टेस थी। नीरजा ने अपनी सूझबुझ से चालक दल के तीनों सदस्य को कॉकपिट से निकलकर भगा दिया था। उधर, प्लेन के हाईजैक करने के 17 घंटे के बाद आतंकियों ने यात्रियों की हत्या करनी शुरू कर दी। प्लेन में विस्फोटक लगाने शुरू कर दिए। तभी नीरजा इमरजेंसी गेट खोलने में कामयाब रही और सभी यात्रियों को फ्लाइट से सुरक्षित निकाल दिया, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण वह खुद आतंकियों की गोली का शिकार हो गई।

पाकिस्तान में भी किया जाता है सम्मानित-

भारत सरकार ने इस काम के लिए नीरजा को बहादुरी के लिए सर्वोच्च वीरता पुरस्कार ‘अशोक चक्र’ से सम्मानित किया। आपको बता दें, नीरजा यह पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की महिला रही। इतना नहीं, नीरजा को पाकिस्तान सरकार की तरफ से ‘तमगा-ए-इंसानियत’ और अमेरिकी सरकार की तरफ से ‘जस्टिस फॉर क्राइम अवॉर्ड’ से भी नवाजा गया। आपको बता दें, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नीरजा का नाम हीरोइन ऑफ हाईजैक के तौर पर मशहूर है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like