#YouthDay: स्वामी विवेकानंद जी के यह अनमोल विचार देंगे, जीवन को नया दृष्टिकोण!

मेधज न्यूज  |  Special Story  |  12 Jan 17,11:01:52  |  
swami_vivekananda1.jpg

देशभर में युवाओं की प्रेरणास्त्रोत स्वामी विवेकानंद की आज 154वीं जयंती है। स्वामी विवेकानंद का नाम सुनते ही हम सबके मन में उनके प्रति श्रद्धा और स्फूर्ति पैदा हो जाती है। उनके भारत के नैतिक एंव जीवन मूल्यों दुनिया भर के प्रचलित है और उनके विचार प्रेरणादायक है, जिसकी वजह से उनके प्रति श्रद्धा उत्पन्न होती है। वहीं स्फूर्ति का कारण उनके विचारों और जीवन मूल्यों से जीवन को एक नई दिशा मिलती है।

स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी सन् 1863 में कलकत्ता के एक कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके बचपन का नाम नरेन्द्रनाथ दत्त था। 12 जनवरी का दिन युवा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। उन्होंने युवा शक्ति को समाज की रीढ़ की हड्डी माना है।

इसे भी पढ़ें- दूसरी स्कॉर्पीन क्लास पनडुब्बी ‘खंडेरी’ हुई लॉन्च, अब बढ़ेगी भारतीय नौसेना की ताकत

आज उनकी जयंती के दिन हम उनके कुछ अनमोल विचारों को जानते हैं और इन विचारो को अपने जीवन में गहन करने की कोशिश करते हैं-

1 “विन्रम बना, साहसी बनो, शक्तिशाली बनो”

2. “उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब-तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए।”

3 “सबसे बड़ा धर्म है, अपने स्वभाव के प्रति सच्चे होना। स्वंय पर विश्वास करो।”

4.“जीवन में ज्यादा रिश्ते होना जरूरी नहीं है, पर जो रिश्ते हैं उनमें जीवन होना जरूरी है।”

5. “जिस दिन आपके सामने कोई समस्या न आए- आप यकीन कर सकते है कि आप गलत रास्ते पर सफर कर रहे हैं।”

6. “संभव की सीमा जानने का केवल एक ही तरीका है, असंभव से भी आगे निकल जाना।”

7. “एक मकसद के लिए खड़े हो तो एक पेड़ की तरह, गिरो तो एक बीज की तरह, ताकि दोबारा उगकर उसी मकसद के लिए फिर से जंग कर सको”

8. “सब कुछ खोने से ज्यादा बुरा, उस उम्मीद को खो देना है, जिसके भरोसे पर हम सब कुछ वापस पास सकते हैं।”

9. “अच्छे चरित्र का निर्माण हजारों बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।”

10. “खुद को कमजोर समझना ही सबसे बड़ा पाप है।”

इसे भी पढ़ें- अमेजन कनाडा ने भारतीय तिरंगे का बनाया डोरमेट, सुषमा ने अपनाया सख्त रूख

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...