भारत ने 26 साल बाद रचा इतिहास बने कुछ नए रिकॉर्ड

medhaj news 14 Feb 18 , 06:01:38 Sports
virat_kohli_celebrates.jpg

भारत ने दक्षिण अफ्रीका द्वारा बल्लेबाजी का आमंत्रण मिलने पर मेजबान टीम के सामने 275 रनों का लक्ष्य रखा था | दक्षिण अफ्रीका इस लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई और 42.2 ओवरों में 201 रनों पर ही ढेर हो गई | मेजबान टीम के लिए हाशिम अमला (71) और हेइनरिक क्लासेन (39) ने संघर्ष किया जो आखिरकार जाया गया | मेजबान टीम को अच्छी शुरुआत मिली, लेकिन 13 रनों के अंदर तीन विकेट गिरने के कारण वह संकट में आ गई थी | अमला और कप्तान एडिन मार्कराम (32) ने पहले विकेट के लिए 52 रन जोड़े. इस बीच मार्कराम को एक जीवनदान मिला जब श्रेयस अय्यर ने जसप्रीत बुमराह की गेंद पर उनका कैच छोड़ा | हालांकि वह इसका फायदा नहीं उठा सके और बुमराह ने उन्हें विराट कोहली के हाथों कैच कराया | दुनिया की नंबर एक वनडे टीम ने साबित कर दिया कि आखिर वह इस मुकाम पर क्यों पहुंची है। जीत में कप्तान कोहली की अहम भूमिका रही। आखिरी मैच में वह भले ही 36 रन बनाकर रन आउट हो गए, लेकिन इस सीरीज में अभी तक उन्होंने जबरदस्त बल्लेबाजी की है। भारत अब छह वनडे मैचों की सीरीज में 4-1 की अजेय बढ़त बना चुका है। 2003 में सौरभ गांगुली की कप्तानी में भारत आईसीसी विश्व कप के फाइनल तक पहुंचा। भारत को फाइनल में रिकी पोंटिंग की टीम के सामने उन्नीस साबित होना पड़ा। 2009 में चैंपियंस ट्रोफी में महेंद्र सिंह धोनी की टीम नॉक-आउट से पहले ही बाहर हो गई थी।  वनडे रैंकिंग में फिलहाल दूसरे पायदान पर मौजूद साउथ अफ्रीकी टीम को सीरीज में चोटों से काफी परेशान रहना पड़ा। नियमित कप्तान फाफ डु प्लेसिस, एबी डि विलियिर्स और क्विंटन डि कॉक चोटिल रहे। पहले मैच में डु प्लेसिस ने 120 रनों की पारी खेली। इसके बाद उनकी उंगली में फ्रैक्चर हो गया और वह सीरीज से बाहर हो गए। दूसरे वनडे के दौरान नियमित विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डि कॉक चोटिल हो गए। पहले तीन मैचों से बाहर रहने वाले एबी डि विलियर्स भी चौथे वनडे में ही टीम के साथ जुड़ पाए। ऐसे में हाशिम अमला जो पांच मैचों में सिर्फ एक हाफ सेंचुरी लगा पाए हैं को छोड़ दें तो मेजबान टीम की बल्लेबाजी काफी कमजोर रही है।



 


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like