सहारा की अर्जी को SC ने किया खारिज! कहा –“नोटबंदी का बहाना नहीं चलेगा, वक्त पर जमा करें पैसे”!

मेधज न्यूज़  |  Sports  |  12 Jan 17,16:17:18  |  
sahara.jpg

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह की उस अर्जी को खारिज कर दिया, जिसमें सेबी के पास 600 करोड़ रुपए जमा कराने के लिए और वक्त दिए जाने की मांग की थी। हालांकि, सहारा ने कोर्ट में कहा कि, नोटबंदी की वजह से उन्हें पैसा जुटाने में दिक्कत हो रही है। लेकिन, कोर्ट ने सहारा की इस दलील का मानने से इंकार कर दिया। कोर्ट ने याचिका खारिज करते हुए संकेत दिया कि, अगर वक्त पर पैसे जमा नहीं किए तो सुब्रत रॉय को जेल भेजा जा सकता है।

बता दें, कोर्ट ने पिछली सुनवाई में साफ कहा था कि, 6 फरवरी 2017 तक 600 करोड़ रुपए जमा वहीं करवाने पर सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय को फिर से जेल भेजा सकता है। हालांकि, सहारा समूह ने कोर्ट में याचिका दायर मांग की थी कि, वे उन्हें पैसे दिए जाने के लिए कुछ वक्त दिया जाए। क्योंकि वह नोटबंदी की वजह से पैसे नहीं जुटा पा रहे हैं। सहारा समूह ने कोर्ट में कहा कि, नोटबंदी की वजह से उसे अपनी संपत्ति बेचने में दिक्कत आ रही है। लेकिन, कोर्ट ने सहारा की दलील मानने से इंकार कर दिया।

इसे भी पढ़े - राहुल गांधी ने उड़ाया पीएम मोदी का मजाक...तो केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दिया मुंहतोड़ जवाब!

बता दें, 28 नवंबर 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय को जेल से बाहर रखने के लिए 6 फरवरी 2017 तक सेबी को 600 करोड़ रुपए जमा करने को आदेश दिया था। इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने 25 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत रॉय के परोल को 28 नंवबर तक बढ़ा दिया था। उस वक्त कंपनी ने सेबी को 200 करोड़ रुपए जमा किए थे।  उस सुनवाई के दौरान सहारा समूह की ओर से कहा गया था कि, 26 महीनों में निवेशकों के तमाम बकायों को लौटा देंगे। उस वक्त सुप्रीम कोर्ट को बताया गया था कि 2018 तक वे सभी बकायों को चुका देंगे।

इसे भी पढ़े - BSF जवान के बाद CRPF के जवान ने उठाए व्यवस्था और सुविधाओं पर सवाल.... देखें वीडियो!

बता दें, 2 साल तिहाड़ जेल में बिताने के बाद सुब्रत रॉय को उस वक्त रिहा किया गया था, जब मई महीने में उनकी मां का निधन हो गया था। उस वक्त सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत रॉय़ की परोल बढ़ाने की यह शर्त रखी थी कि, वे वक्त-वक्त पर निवेशकों के पैसे लौटा देंगे।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...