ऊर्जा मंत्री RK SINGH ने अरूण जेटली को लिखा पत्र, कहा, ‘सोलर पैनल और मॉड्यूल्स पर न लगाए इंपोर्ट ड्यूटी’

Medhaj News 24 Nov 17 , 06:01:37 Sports
rk_singh.jpg

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड के अधिकारियों ने इंपोर्टेड सोलर पैनल्स और मॉड्यूलस पर 7.5 % बेसिक इंपोर्ट ड्यूटी लगाने का निर्णय किया है। शुरूआत में इंपोर्ट ड्यूटी रूल्स को चेन्नई पोर्ट तक सीमित रखा गया था। लेकिन नए नियमों के तहत इसका दायरा देश के कई बंदरगाहों तक फैला दिया गया है। इस फैसले का सोलर इंडस्ट्री विरोध कर रही है।

ऊर्जा मंत्री ने पत्र लिखकर की शिकायत

ऊर्जा मंत्री RK SINGH ने वित्त मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर शिकायत की है कि कस्टम्स अथॉरिटीज सोलर इक्विपमेंट्स पर गलत तरीके से टैक्स डिमांड कर रहे है, जिसके चलते इंपोर्ट में बाधा आ रही है और रिन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट्स को रफ्तार देने के प्रधानमंत्री के एक अहम कार्यक्रम पर असर पड़ रहा है।

RK SINGH ने लेटर में कहा, 'इसमें कोई शक नहीं है कि पैनलों और मॉड्यूल का उपयोग बिजली उत्पादन में किया जाता है, लेकिन इनका इस्तेमाल रिन्यूएबल एनर्जी पैदा करने में भी होता है और यही वजह है कि सरकार ने सोच-समझकर निर्णय किया था कि इनके इंपोर्ट पर कोई कस्टम्स ड्यूटी नहीं लगनी चाहिए।'

हालांकि, इस लेटर से कोई फर्क अब तक नहीं पड़ा है। इसके बजाय चेन्नई के अधिकारियों ने दूसरे बंदरगाहों के अधिकारियों को लेटर भेजे हैं कि वे भी सोलर पैनलों और मॉड्यूल्स को उनकी ही तरह क्लासिफाई करें।

MNRE के सेक्रेटरी भी कस्टम बोर्ड से कर चुके इस मुद्दे पर बातचीत

MNRE (Ministry of new and renewable energy) के सेक्रेटरी आनंद कुमार पहले ही यह मुद्दा कस्टम बोर्ड के अधिकारियों के सामने रख चुके थे। उन्होंने कहा कि इंडियन सोलर प्रोजेक्ट्स में इस्तेमाल होने वाले सोलर पैनल्स और मॉड्यूल्स का 90% हिस्सा आयात होता है। इसमें से अधिकांश हिस्सा चीन से आता है।

उन्होंने बताया कि सोलर मॉड्यूल्स को परंपरागत रूप से इंडियन टैरिफ एक्ट 1975 के सीटीएच 8541 के तहत क्लासिफाई किया गया था। इसके दायरे में 'डायोड, ट्रांजिस्टर और इस तरह की सेमीकंडक्टर डिवाइसेज, फोटो सेंसिटिव सेमीकंडक्टर डिवाइसेज, फोटो वोल्टेइक सेल्स, लाइट एमिटिंग डायोड्स, माउंटेड पीजो-इलेक्ट्रिक क्रिस्टल्स' शामिल थे, जिन पर इंपोर्ट ड्यूटी नहीं लगती थी।

हालांकि, कस्टम्स ऑफिशियल्स ने हाल के दिनों में इस बात पर जोर देना शुरू किया कि ये सभी सीटीएच 8501 में आते हैं, जिसका संबंध 'इलेक्ट्रिकल मोटर्स और जेनरेटर्स' है और जिसमें शामिल चीजों पर 7.5% ड्यूटी, 2% एजुकेशन सेस और 1% सेंकेंडरी एंड हायर एजुकेशन सेस लगता है।

बता दें ,कि अब तक सोलर पैनल्स और मॉड्यूलस पर कोई ड्यूटी नहीं चुकानी होती थी।

 

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like